इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेन्टर सक्रियता व क्षमता से करें संचालित - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ


लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के दृष्टिगत जनपदों में स्थापित किए गए इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को पूरी सक्रियता व क्षमता से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जनपद लखनऊ, वाराणसी, प्रयागराज, मेरठ व कानपुर नगर में विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश देते हुए कहा कि इन जनपदों में मृत्यु दर में कमी लायी जाए। कोविड अस्पतालों में सीनियर डाॅक्टर्स राउण्ड लेते रहे। उन्होंने कहा कि राज्य में कोविड-19 संक्रमण की दर को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। इस सफलता को हर हाल में बनाए रखते हुए संक्रमण को और कम करने के सक्रिय प्रयास निरन्तर जारी रखे जाएं।


मुख्यमंत्री अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर, 2020 तक नवरात्रि के दौरान महिलाओ व बालिकाओं की सुरक्षा व सम्मान के दृष्टिगत पुलिस विभाग द्वारा विशेष अभियान चलाए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि इस अभियान के तहत शिक्षा, बाल विकास तथा महिला कल्याण विभाग को भी जोड़ते हुए कार्यवाही की जाए।


मुख्यमंत्री ने 10 अक्टूबर से 16 अक्टूबर, 2020 तक स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन का एक विशेष अभियान चलाए जाने निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसके तहत कूड़े निस्तारण की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। एन्टी लार्वा तथा चूने इत्यादि का छिड़काव हो। इससे डेंगू व अन्य बीमारियों को नियंत्रित करने में सफलता मिलेगी। उन्होंने स्वच्छता व सेनिटाइजेशन अभियान के साथ जनप्रतिनिधियों को भी जोड़े जाने की बात कही। सड़क सुरक्षा के दृष्टिगत अन्तर्विभागीय समन्वय करते हुए जनपदों में सड़क व यातायात सुरक्षा के कार्य क्रम संचालित किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 15 अक्टूबर को वल्र्ड हैण्ड वाॅश डे होता है। इस सम्बन्ध में जागरूकता के लिए बेसिक, माध्यमिक, प्राविधिक एवं उच्च शिक्षा विभाग से समन्वय बनाते हुए कार्यक्रम किए जाएं। योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत अधिक से अधिक लोगो को लाभान्वित किए जाने की कार्ययोजना बनायी जाए। उन्होंने इन्वेस्टर्स समिट के तहत हुए एम0ओ0यू0 तथा निवेश के सम्बन्ध में उद्यमियों व निवेशकों से संवाद व समन्वय बनाते हुए शीघ्र कार्य वाही किए जाने के निर्देश भी दिए।


अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि तीन वर्गों के तहत निवेशको से संवाद स्थापित किया जा रहा है। पहले वर्ग मे वे निवेशक हैं, जिनकी परियोजनाओं का क्रियान्वयन अन्तिम चरण में है। दूसरे वह हैं जिनकी योजनाएं प्रक्रियाधीन हैं तथा तीसरा वर्ग उन निवेशकों का है जो प्रदेश में निवेशक के इच्छुक हैं।


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न