जिलाधिकारी द्वारा नगरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिल्वर जुबली का किया गया आकस्मिक निरीक्षण

लखनऊ। स्वास्थ्य केंद्र पहुँच कर जिलाधिकारी द्वारा आर0आर0टी0 टीम और कोविड 19 को रोकने के लिए चलाए जा रहे अभियान विशेषकर सर्विलांस, डोर टू डोर सर्वे, कांटैक्ट ट्रेसिंग, टेस्टिंग, होम आईसोलेशन के सत्यापन इत्यादि के सम्बंध में जानकारी हासिल की। साथ ही RRT टीमो के कार्यो का भी सत्यापन किया। जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि सभी RRT टीम ज़्यादा से ज़्यादा कांटैक्ट ट्रेसिंग व टेस्टिंग कराना सुनिश्चित कराए। 


साथ ही समुदायिक केंद्र के सामने सिल्वर जुबली छात्रावास में बनाए गए टेस्टिंग सेंटर का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण में कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन करते हुए लोगों का कोविड टेस्ट होता पाया गया। प्रभारी द्वारा बताया गया कि इस टेस्टिंग सेंटर के द्वारा प्रतिदिन लगभग 70 से अधिक टेस्ट किये जा रहे है।  जिसके बाद जिलाधिकारी द्वारा CHC के नोडल और MOIC के साथ RRT व सर्विलांस टीमो के कार्यो की समीक्षा भी की गई।


जिसके पश्चात जिलाधिकारी द्वारा पूरे परिसर का भृमण किया गया। निरीक्षण ने परिसर के अंदर व बाहर पर्याय साफ सफाई और सेनेटाइज़ेशन का कार्य होता पाया गया। CHC के नोडल द्वारा बताया गया CHC में 2 डाक्टरो की कमी थी जिसके लिए  2 डाक्टरो की डिमांड की गई थी परन्तु अभी तक डाक्टरो के द्वारा ज्वॉइन नही किया गया। जिसके लिए जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि तत्काल दोनों डाक्टरो को आज शाम को ही ज्वॉइन कराया जाए।


साथ ही ये भी निर्देश दिया कि जो RRT टीमें घर घर जा कर सर्वे कर रही है और होम आईसोलेशन वाले रोगियों का वेरिफिकेशन कर रही है उसका डेटा, वेरिफिकेशन स्टेटस आदि RRT लॉगिन पर फीड करे, ताकि उसकी ऑनलाइन मॉनिटरिंग भी की जा सके। ये भी आदेश दिया गया कि हाउस आईसोलेशन में रहने वाले शत प्रतिशत लोगो को कवर किया जाए और कवर करने के साथ ही उनको मेडिकल किट उपलब्ध कराना भी सुनिश्चित कराया जाए साथ ही पाज़िटिव रोगी के कांटैक्ट को भी आवश्यक दवाईयां  उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराया जाए। उक्त के साथ ही जिलाधिकारी द्वारा होम आईसोलेशन में रहने वाले रोगियों को निरन्तर कॉल करके उनका हाल चाल लेने के निर्देश भी दिए ताकि रोगी के स्वस्थ्य में गिरावट आने पर तत्काल उसको हास्पिटल में भर्ती कराया जा सके। सघन सर्विलांस अभियान चलाने के साथ ही विशेषकर ILI, SAARI और कोमऑर्बिट लोगो के टेस्ट अवश्य करा लिए जाए  और यदि आवश्यकता होती है तो तत्काल उनके चिकित्सकीय उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए  ताकि कोविड 19 से लोगो के जीवन की रक्षा की जा सके। 


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार