स्मरण रखो कि कभी भी मृत्यु हो सकती है इससे पाप वृत्ति का उदभव नहीं होगा

 


जीवन को उजागर करना हो तो जो समय बीत गया उसका स्मरण मत करो भविष्य का विचार भी मत करो केवल वर्तमान को सुधारो समय बहुत कम है जितना अधिक हो सके प्रभु का स्मरण करो। 

भजन के लिए अनुकूल समय की प्रतीक्षा न करो कोई भी क्षण भजन के लिए अनुकूल है हर पल ये स्मरण रखो कि कभी भी मृत्यु हो सकती है इससे पाप वृत्ति का उदभव नहीं होगा।

लौकिक रस के भोगी को प्रेमरस नहीं मिलता, भक्तिरस भी नहीं मिलता जिसने काम का त्याग किया है वही रसिक है जगत का रस कटु है प्रेमरस ही मधुर है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन