महिला कल्याण विभाग के अंतर्गत कोविड वर्चुअल सपोर्ट ग्रुप बनाकर की जा रही है निगरानी

लखनऊ। कोविड-19 के कारण पिछले एक वर्ष में महिला कल्याण विभाग के अंतर्गत महिलाओं एवं बच्चों हेतु संचालित संस्थाओं / गृहों में स्टाफ एवं संवासियों को कोविड प्रोटोकॉल के कारण अनेक प्रकार के प्रतिबंधों के अंतर्गत रहना पड़ रहा है जिसके कारण बच्चों की शिक्षा, शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ सकता है।

ऐसी स्थिति में स्टाफ एवं संवासियों को कोविड-19 अनुकूल व्यवहार के विषय में उचित प्रशिक्षण दिये जाने, बच्चों की शिक्षा अनवरत् जारी रखने, संवासियों के शारीरिक, मानसिक व मनोसामाजिक स्वास्थ्य को बनाए रखने व प्रदेष के समस्त जनपदों में वर्चुअल माध्यम से निगरानी हेतु विभाग द्वारा मुख्यालय स्तर पर कोविड वर्चुअल सपोर्ट ग्रुप का गठन किया गया है। ग्रुप द्वारा समस्त गृहों में कार्यरत् स्टाफ को कोविड अनुकूल व्यवहार पर प्रषिक्षित किया गया है जिससे वे संस्थाओं में आवासित संवासियों की सुरक्षा के दृष्टिगत अधिक सजग व जागरूक रहें। 

आकांक्षा अगरवाल (अध्यक्ष) मुख्य पारिवीक्षा अधिकारी उ0प्र0। पुनीत कुमार मिश्रा, उप-मुख्य परिवीक्षा अधिकारी उ0प्र0। आशुतोष कुमार सिंह उप-मुख्य परिवीक्षा अधिकारीउ0प्र0। बी0 एस0 निरंजन- उप-मुख्य परिवीक्षा अधिकारी उ0प्र0। प्रवीण कुमार त्रिपाठी, उप-मुख्य परिवीक्षा अधिकारी, वाराणसी मण्डल। नीरज मिश्रा, सलाहकार, यूनिसेफ -महिला कल्याण विभाग, उ0 प्र0। प्रीतेश कुमार तिवारी, सलाहकार, यूनिसेफ -महिला कल्याण विभाग, उ0 प्र0।मो0 जावेद अंसारी, सलाहकार, यूनिसेफ -महिला कल्याण विभाग, उ0 प्र0।

प्रत्येक 15 दिवस पर समस्त संस्थाओं में नियमित रूप से बच्चों, महिलाओं एवं स्टाफ की कोविड जांच सुनिष्चित करना।संस्थाओं सहित विभाग के समस्त कार्यालयों में षामिल स्टाफ को आवश्यक सेवाओं के अंतर्गत षामिल करवाते हुये शत प्रतिशत कोविड टीकाकरण सुनिश्चित करवाना। कोविड 19 से बचाव हेतु समय समय पर उचित दिशा निर्देश देना एवं पूर्व मे जारी दिशा निर्देशों का अनुपालन तथा समीक्षा करना। 

कोविड 19 से बचाव एवं जागरूकता हेतु, स्टाफ तथा बच्चें हेतु प्रशिक्षण आयोजित करना। संस्थाओं मे आवासित संवासियों के मानसिक भय को समाप्त करने के लिए विभिन्न जीवन कौशल गतिविधियों का संचालन। संस्थाओं में संवासियों को जीवन कौशल गतिविधियां का प्रशिक्षण। संस्थाओं मे मनोरंजन हेतु विभिन्न गतिविधियां जैसे प्रेरक फिल्में एवं कहानियाँ, इंडूर-आउटडोर गेम्स, विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं, पोस्टर मेकिंग / चित्रकला / वाल पेंटिंग, स्टोरी टेलिंग / कहानियाँ सुनाना इत्यादि सुनिश्चित करना।  

निदेषक मनोज कुमार राय द्वारा बताया गया कि विभाग द्वारा बाल गृहों में आवासित बच्चे व महिलाओ सहित बाल संरक्षण क्षेत्र में कार्यरत अन्य विभागीय ईकाईयों को सहायता प्रदान करने हेतु प्रदेश स्तर पर इस कोविड वर्चुअल सपोर्ट ग्रुप का गठन किया गया है। कोविड से बचाव हेतु प्रत्येक बाल गृहों मे एक क्वारनटीन सेंटर तथा आइसोलेषन वार्ड की व्यवस्था की गई है। प्रशिक्षण के आयोजन स्वास्थ्य विशेषज्ञ यूनिसेफ डॉ. कनुप्रिया सिंघल द्वारा कोविड-19 से बचाव, उपचार एवं रोकथाम के बारें में जानकारी दी गयी।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन