कोरोना मरीजों को AAP मुहैया कराएगी एक्सपर्ट डॉक्टरों से निःशुल्क चिकित्सीय परामर्श- संजय सिंह

 
लखनऊ। कोरोना संक्रमण के खौफ के बीच लोगों को मदद मुहैया कराने के लिए आम आदमी पार्टी ने एक कदम और बढ़ाया है। ऑक्सीजन युक्त ऑटो एम्बुलेंस सेवा के बाद पार्टी की ओर से मंगलवार को हेल्‍थ हेल्‍पलाइन की शुरुआत प्रदेश प्रभारी राज्‍यसभा सांसद संजय सिंह ने की। 
 
उन्‍होंने बताया कि 35 चिकित्‍सकों की टीम इस संकट काल में लोगों को निशुल्‍क सलाह देगी। संजय सिंह ने कहा कि इस टीम में प्रदेश के विभिन्‍न जिलों के चिकित्‍सक शामिल हैं। जल्‍द ही इस टीम में और भी डॉक्‍टरों को जोड़ा जाएगा। ये डॉक्टर्स कोरोना से त्राहि-त्राहि कर रहे यूपी के लोगों को निशुल्‍क उचित परामर्श देकर कोरोना से जारी लड़ाई में उनका हौसला बढ़ाएंगे। राजधानी लखनऊ में डॉ तरुण प्रताप सिंह 9589502474, डॉ एस पी पांडे 938931758, डॉ प्रमोद कुमार सिंह 7054000054, अश्वनी तिवारी 9519874129, डॉक्टर इरशाद अहमद 7897713565, डॉक्टर रईस खान 9335045798, डॉक्टर आरपी यादव 6283237623, डॉक्टर शुभम खान 9682046221, डॉ प्रकाश राजपूत 9839506442 कोरोना मरीजों को निःशुल्क चिकित्सा परामर्श देंगे। 
 
इसके साथ ही संजय सिंह ने प्रदेश में शवों की बेकद्री को लेकर यूपी के मुख्‍यमंत्री पर करारा हमला बोला। कहा कि आदित्‍यनाथ की सरकार बड़े-बड़े दावे कर रही है। डब्‍ल्‍यूएचओ का सर्टीफ‍िकेट लेकर घूम रही है। अपनी पीठ खुद से थपथपा रही है कि कोरोना के केसेज कम हो रहे हैं और मृत्‍युदर घट गई, लेकिन जमीनी हकीकत इसके बिल्‍कुल विपरीत है। 1140 किलोमीटर लंबी नदियों के घाट पर दो हजार से ज्‍यादा शव पड़े हुए हैं। इन शवों को नोचते हुए कुत्‍ते की तस्‍वीरें सामने आईं। उन्‍नाव, कानपुर, हमीरपुर, बलिया, गाजीपुर में घाटों के किनारे अंतिम संस्‍कार के समय हजारों की संख्‍या में शव देखे गए और जो प्रयागराज के घाट पर दृश्‍य सामने आया, उसे देखकर तो आपकी रूह कांप जाए। गरीबी के कारण मजबूरी में लोग शवों का अंतिम संस्‍कार नहीं कर पा रहे और न‍दी में प्रवाहित करके या किनारे दफनाकर चले जा रहे हैं।
 
प्रयागराज में सामने आया कि लोग महंगी लकड़ी नहीं खरीद पा रहे हैं, इसलिए जलाने की जगह शव दफनाए जा रहे हैं। आज बलिया से एक वीडियो सामने आया जिसमें पुलिस वाले एक शव को पेट्रोल और टायर से जला रहे हैं। यह शवों का अपमान है आदित्‍यनाथ वो आत्‍माएं आपसे सवाल पूंछेंगी, क्‍या मृत्‍यु के बाद सम्‍मानजनक अंतिम संस्‍कार उनका अधिकार नहीं था। यह व्‍यक्ति के संवैधानिक अधिकारों का उल्‍लंघन है। राज्‍य सरकार की नाकामी से आज पूरे प्रदेश में जगह-जगह मानवता को शर्मसार करती ऐसी तस्‍वीरें सामने आ रही हैं। ये शर्मनाक तस्‍वीरें यूपी की जनता को कभी नहीं भूलेंगी। मुख्‍यमंत्री आपको इनका जवाब देना ही होगा।
 
डॉ तरुण प्रताप सिंह और एसपी पांडे प्रेसवार्ता में मौजूद थे। पार्टी के प्रदेश सचिव डॉ तरुण प्रताप सिंह ने कहां कि प्रदेश भर में डॉक्टरों का यह पैनल प्रदेश भर में कोरोना मरीजों को फोन पर परामर्श देगा और प्रत्येक जनपद के लिए अलग से डॉक्टरों की व्यवस्था की गई है और जल्द ही डॉक्टरों के इस पैनल में अन्य डॉक्टरों को भी जोड़ा जाएगा जो अपने-अपने क्षेत्रों के विशेषज्ञ होंगे।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन