खबरदार!! गंगा में शव जल प्रवाह निषेध है- एमपी सिंह, जिलाधिकारी

गाज़ीपुर। कोरोना महामारी के चलते जहां अस्पताल में मरीज अचानक से बढ़ गए और मरने वालों की संख्या ने सबको हैरत में डाल दिया, वहीं गंगा में उतराए शवों ने एक नई बहस छेड़ दी है, जिसके चलते जिला प्रशासन हरकत में आ गया है, गाज़ीपुर जिलाधिकारी और एसपी घूम घूम कर गंगा घाटों और शमशान का जायजा ले रहे हैं।

लकड़ी की कमी और परम्पराओ के चलते शवो का गंगा में जल प्रवाह को रोकने के लिए पुलिस मुनादी भी कर रही है और तो और जलावनी लकड़ी से लेकर डोम राजा की फीस भी प्रशासन ने फिक्स कर इस महामारी में लूट खसोट की घटनाओं पर भी विराम लगाने का प्रयास किया है। 10 मई को बिहार राज्य के बक्सर जिला के चौसा गंगा घाट पर एक साथ दर्जनों शवों के गंगा में उतराने से हड़कम्प मच गया था। सवाल उठने लगे थे कि इतनी डेड बॉडीया कहां से आ गई है। इस पर तमाम सवाल उठने लगए थे। इसके बाद बिहार से सटे गाजीपुर जिले के गहमर थाना इलाके के कई गंगा घाटों पर भी दर्जनों की संख्या में गंगा में शव उतराया मिला। जिसकी जानकारी लोगों से प्रशासन को हुई तो हड़कम्प मच गया।

स्थानीय लोगों ने गंगा में दर्जनों की संख्या में उतराए शवों की शिकायत जिला प्रशासान को दी। जिसके बाद जिला प्रशासान ने 11 मई की रात से ही सभी शवों को मल्लाहों और स्थानीय लोगों की मदद से घूम घूम कर शवों का डिस्पोजल करना शुरू कर दिया। इसके बावजूद भी जिले के कई और गंगा घाटों और किनारों पर शवो के मिलने का सिलसिला जारी है। जिसके बाद डीएम गाजीपुर एमपी सिंह ने गंगा में 12 घण्टे तक शिफ्ट वाइज पेट्रोलिंग करने का निर्देश भी दे दिया। पेट्रोलिंग में सुबह 7 बजे से 1 बजे तक एसआई और राजस्व विभाग की टीम पेट्रोलिंग करेगी उसके बाद 1 बजे से क्षेत्रीय एसडीएम और सीओ पेट्रोलिंग करेंगे और लोगों को जागरूक करने का काम करेंगे कि कोई भी डेड बॉडी गंगा में प्रवाहित नहीं करेगा।

जो भी परिजन अपने परिवार का शव अंतिम संस्कार करने के लिए आ रहे है। उनको जिला प्रशासन के द्वारा गंगा में जल प्रवाहित करने से मना किया जा रहा है, और कहा जा रहा है कि उन शवों को जलाया जाए। ऐसे में जिला प्रशासन गरीब तबके के लोगों के लिए अंतिम संस्कार करने के लिए कफन, लकड़ी से लेकर जलाने में प्रयुक्त होने वाली सभी समाग्री के साथ डोम राजा को देने वाला शुल्क भी जिला प्रशासान वहन करेगा। साथ जिला प्रशासन ने श्मशान घाट पर 650 रूपये प्रति कुंतल और डोम राजा को देने वाला शुल्क 500 रूपये भी निर्धारित कर दिया है। इससे अधिक अगर कोई शुल्क लेता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जायेगी।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन