बिना अखबार में छपे भी हो सकती है समाज सेवा



लखनऊ : समाज सेवा जहाँ लोगों की नुमाईश  हो गई हैं वही कुछ ऐसे भी शख्श हैं जो बिना नुमाईश ही समाज सेवा में दिन रात जुटे हैं। आपने अक्सर देखा होगा कि लोग एक रूपये का मास्क बाँटते हैं और उसे चार लोग पकड़ कर फोटो खींचवाते हैं और उसे सोशल मिडिया,प्रिंट मिडिया आदि के माध्यम से खूब प्रसारित करते हैं वहीँ कुछ ऐसे भी लोग हैं जो सैकड़ों को भोजन करा कर भी चुप-चाप निकल जाते हैं। एक ऐसी ही सेवा कर चुप चाप निकल जाने वाली संस्था है मिथिला मंच लखनऊ। मिथिला माता जानकी की जन्म भूमि हैं। मिथिला से जुड़े लोगों की संस्था है मिथिला सेवा समिति द्वारा संचालित मिथिला मंच  लखनऊ द्वारा सिर्फ अपने ही समाज नहीं सम्पूर्ण मानव जाति के लिए कोरोना काल में  स्वास्थ्य टीम का गठन कर हजारों लोगों को स्वास्थ्य सम्बन्धी निशुल्क परामर्श दिए गए और अभी भी दिए जा रहे हैं। कई को ऑक्सिजन सिलेंडर तो कईयों को प्राणरक्षक दवाएं मुफ्त में उपलब्ध कराये गए। संस्था अपने क्रमठ कार्यकर्ताओं के दम रोज नए कृतिमान स्थापित कर रहा है। संस्था ने कोरोना काल में आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे लोगों की दिल खोलकर मदद की साथ ही संस्था ऐसे बच्चों को गोद लेना चाहती है जो इस कोरोना काल में अनाथ हो गए हैं। ऐसे बच्चों को संस्था पढ़ा - लिखा कर एक जिम्मेदार नागरिक बनाना चाहती है।   

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर