भाजपा चुनाव के समय सफाईकर्मियों के पैर धुलती, चुनाव बाद लाठियों से पिटवाती- संजय सिंह

लखनऊ। फर्जीवाड़ा करके ईडब्ल्यूएस प्रमाण पत्र पर भाई को असिस्टेंट प्रोफेसर की नौकरी दिलाने वाले बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री सतीश द्विवेदी पर अब तक कोई कार्रवाई न होने पर आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी, राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कड़ी नाराजगी व्यक्त की। कहा कि अब समझ मे आया आपके बच्चे को स्वेटर, जूता क्यों नहीं मिलता ? किताबें क्यों नहीं मिलती? मिड डे मील में नमक रोटी क्यों मिलती है ? क्योंकि बेसिक शिक्षा मंत्री आपके बच्चों के हक का पैसा डकार रहै हैं।

स्कूल की बिल्डिंग भले ही जर्जर हो मंत्री की बिल्डिंग आलीशान है। संजय सिंह ने कहा कि सरकार की ओर से मंत्री पर अब तक कोई कार्रवाई ना किया जाना यह बताता है कि पूरी सरकार भ्रष्टाचार के आकंठ में डूबी हुई है। गरीब बच्चों का हक मारकर करोड़ों की जमीनें खरीदने वाले मंत्री को अविलंब बर्खास्त किया जाना चाहिए। बेसिक शिक्षा मंत्री के खिलाफ इतने प्रमाण सामने आ चुके हैं कि मुख्यमंत्री को उनका इस्तीफा लेने में अब जरा भी देर नहीं करनी चाहिए। लेकिन, इसके बाद भी सरकार की ओर से मंत्री को बचाने का काम किया जा रहा है।

संजय सिंह ने लखनऊ में कार से कुचलकर कोरोना योद्धा सफाई कर्मी की कार से कुचलकर मौत के बाद प्रदर्शन कर रहे सफाई कर्मचारियों पर लाठीचार्ज की घटना की भर्त्सना की। कहा कि ये है आदित्यनाथ की सरकार का तानाशाह चेहरा। चुनाव के समय प्रधानमंत्री इन सफ़ाईकर्मियों का पैर धुलते हैं, लेकिन सफ़ाईकर्मी के कार से कुचले जाने पर आवाज़ उठाओ तो योगी राज में उन्हें लाठियों से बर्बरतापूर्वक पीटा जाता है। संजय सिंह ने कहा कि योगी, समय आने पर बाल्मीकी समाज आपको इस अपमान का जवाब देगा। राज्यसभा सांसद ने अवैध शराब से हो रही मौतों का मामला उठाते हुए मुख्यमंत्री पर सीधा निशाना साधा। कहा कि उत्तर प्रदेश में अवैध शराब पीने के कारण सैकड़ों लोगों की मौत हो चुकी है। हर मामले में जांच बैठ जाती है, लेकिन आजतक दोषियों को कोई सज़ा नहीं मिली।

अलीगढ़ में जहरीली शराब पीकर 12 लोगो की मौत हो गयी उनका जिम्मेदार कौन है? मुख्यमंत्री को इसका जवाब देना चाहिए। संजय सिंह ने कहा कि कोरोना काल में अपनी नाकामी पर पर्दा डालने के लिए योगी सरकार हर जतन कर रही है। योगी सरकार महामारी पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही है तो कभी विरोध कर रहे लोगों की आवाज दबाकर अपनी नाकामी छिपाने का प्रयास करती है। आपदा को अवसर बनाकर सरकार के मंत्री भ्रष्टाचार कर रहे हैं, तो वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके खिलाफ कार्रवाई करने की जगह प्रदेश में एस्मा लगा कर विरोध में उठने वाली हर आवाज को दबाने की कोशिश में जुटे हुए है ।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न