कोरोना को मात

ललितपुर बुंदेलखंड के ललितपुर जनपद में पंचायतीराज विभाग के सहयोग से गठित ग्राम निगरानी समितियों के माध्यम से कोरोना महामारी की दूसरी लहर से लड़ने में बड़ी सहायता मिल रही है। जनपद के सभी 415 ग्राम पंचायतों में गठित निगरानी समितियां क्रियाशील होकर गांव के स्कूल, स्वास्थ्य केंद्र, सार्वजनिक स्थलों सहित नालियों की साफ-सफाई के साथ-साथ सैनिटाइजेशन आदि कार्यों में जुट गई है।
 
ललितपुर जनपद के राजघाट रोड स्थित सिलगन में तैयार की गई ग्राम निगरानी समिति के माध्यम से जहां गांव में फैली गंदगी को मशीनों के माध्यम से हटवाने का काम करवाया जा रहा है। वही सदस्यों द्वारा डोर टू डोर जा कर ग्रामीणों के स्वास्थ्य की जानकारी लेकर लक्षण वाले लोगों को जिला अस्पताल भिजवाया जा रहा है। ग्राम निगरानी समिति गांव के 45 प्लस के लोगों को गांव के स्वास्थ्य केंद्र में ही वैक्सीन की डोज लगवाने को प्रेरित कर रही है। ग्राम प्रधान द्वारा गांव में रोजगार, राशन सहित शासन द्वारा सम्मानजनक अंत्येष्टि सहायता की जानकारी भी गांव वालों को दी जा रही है।
 
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हांलहि के बैठक में निर्देश दिया था कि इस प्रकार की निगरानी समितियां गांव के स्तर पर बनायी जाये ताकि करोना के खिलाफ कारगर लड़ाई लड़ी जा सके। प्रधानमंत्री का देश की समस्याओं को लेकर शुरु से एक खास विजन रहा है। उन्होंने कभी भी किसी समस्या को फौरी तौर पर नहीं लिया। समस्या को हल करने की दिशा मे उनकी सोच जीरो ग्राउंड लेवल की होती है। मुझे यह कहते हुये हर्ष हो रहा है कि प्रधानमंत्री के निर्देशों के अनुपालन में जब से ग्रामीण स्तर पर निगरानी समितियों का गठन किया गया है गांव में करोना संक्रमण का प्रसार रुका है। उम्मीद है आने वाले दिनों में सुनियोजित रणनीति की बदौलत प्रधानमंत्री के कुशल नेतृत्व में देश करोना के खिलाफ लड़ी जा रही यह जंग जीतेगा।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां