हम अगर किसी और की मदद करते हैं तो इसे एहसान न मानते हुए अपना कर्तव्य समझना चाहिए



जब हम किसी दूसरे से कोई सहायता/ सहयोग प्राप्त करते हैं तो हमें भी इस मदद को स्मरण रखते हुये यथाशक्ति और शालीनता पूर्वक लौटाने का ध्यान रखना चाहिए।

साथ ही हम अगर किसी और की मदद करते हैं तो इसे एहसान न मानते हुए अपना कर्तव्य समझना चाहिए इस प्रकार का व्यवहार जीवन में आपसी सामंजस्य और स्नेह को बढ़ावा देकर अहंकार को नष्ट कर देता है।

हम अगर दूसरे की खुशियो में अपनी खुशी ढूँढते हैं तो हम हमेशा खुश और सुखी रह सकते हैं।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन