सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, 01 जुलाई से खुलेंगे यूपी के प्राइमरी और जूनियर स्कूल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के कक्षा एक से आठ तक संचालित विद्यालय 1 जुलाई से खुलेंगे। परन्तु अगले आदेश तक छात्र-छात्राओं को विद्यालय में बुलाने की अनुमति नहीं है। केवल शिक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को आवश्यकता अनुसार आना होगा। उन्हें विद्यार्थियों के नामांकन सहित अन्य प्रशासनिक कार्य करने की अनुमति दी गई है।
 
विद्यालयों में छात्र-छात्राओं के पठन-पाठन की गतिविधियां ऑनलाइन (ई-पाठशाला) से माध्यम से जारी रहेगी। उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल ने सभी मंडलीय बेसिक सहायक शिक्षा निदेशकों और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को भेजे निर्देश में कहा है कि कक्षा 1 से 8 तक के प्राथमिकता और उच्च प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों व कर्मचारियों की प्रशासनिक कार्य करने के लिए विद्यालय आने जाने की अनुमति दी जा रही है।विद्यालय केवल प्रशासनिक कार्य के लिए खोले जा रहे हैं। सभी विद्यालयों में छात्र-छात्राओं के पठन-पाठन की गतिविधियां ई-पाठशाला के माध्यम से जारी रहेगा। कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत मई में जारी आदेश के तहत 30 जून 2021 तक कक्षा 1 से 8 तक के विद्यालय बंद रहेंगे।
 
1 जुलाई से शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को आवश्यकतानुसार विद्यालय आने की अनुमति दी जा रही है। अगले आदेश तक छात्र-छात्राओं को विद्यालय में उपस्थित नहीं होना है। साथ ही मान्यता प्राप्त अन्य विद्यालयों में शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की उपस्थिति हेतु विद्यालय प्रबंध समिति यथा आवश्यक अधिकृत होगी। शत-प्रतिशत बच्चों का विद्यालय में नामांकन कराना। मध्यान्ह भोजन योजना के तहत भेजी गई परिवर्तन लागत की धनराशि छात्र-छात्राओं व अभिभावकों के बैंक खातों में प्रेषित करना और प्राप्त खाद्यान्न का वितरण करना। निःशुल्क पाठ्य पुस्तकों का वितरण। परिषदीय विद्यालयों में ऑपरेशन कायाकल्प की गतिविधियों को पूर्ण कराना। प्रेरणा मिशन के अंतर्गत ई-पाठशाला का संचालन। जिला प्रशासन और शिक्षा विभाग द्वारा अन्य महत्वपूर्ण कार्य एवं दायित्वों का संचालन।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर