1230024 किसानों को लाभान्वित करते हुए 10714 करोड़ का किया गया भुगतान

  
उत्तर प्रदेश सरकार ने रबी विपणन वर्ष 2021-22 में न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के तहत अब तक 1230024 किसानों से 54.25 लाख मी0टन गेहूँ की खरीद कर ली हैै, जो कि प्रदेश मंे अब तक की रिकाॅर्ड खरीद है। इस योजना से 10714 करोड़ रूपये का भुगतान पी0एफ0एम0एस0 के माध्यम से सीधे किसानों के बैंक खाते में कराया गया।
 
गेहूँ का न्यूनतम समर्थन मूल्य (डैच्) 1975 रूपये प्रति कुन्तल निर्धारित करते हुए किसानांे से सीधे गेहूँू की खरीद 01 अपै्रल, 2021 से प्रारम्भ की गयी। गेहूँ खरीद की अंतिम तिथि 15 जून, 2021 से बढ़ाकर 22 जून, 2021 किये जाने का निर्णय लिया गया है। यह जानकारी प्रदेश के खाद्य आयुक्त मनीष चैहान ने आज यहाँ देते हुए बताया कि प्रदेश में खाद्य तथा रसद विभाग एवं अन्य क्रय एजेंसियों से लगभग 5678 क्रय केन्द्र संचालित हंै। उन्हांेने बताया कि इससे पूर्व प्रदेश में वर्ष 2018-19 में 52.92 लाख मी0टन सर्वाधिक खरीद की गयी थी। वर्ष 2019-20 में 37.04 लाख मी0टन तथा गतवर्ष 2020-21 में 663810 किसानों से कुल 35.76 लाख मी0टन की खरीद की गयी थी।
 
इस प्रकार गतवर्ष की तुलना में 18.49 लाख मी0टन की अधिक खरीद की गयी है तथा 566214 अधिक किसानों को लाभाविन्त किया गया है। चैहान ने बताया कि प्रदेश में इस वर्ष पहली बार क्रय केन्द्रों पर गेहूँ की खरीद इलेक्ट्राॅनिक प्वांइट आॅफ परचेज (म.चवच) के माध्यम से की जा रही है तथा गेहूँ के मूल्य का भुगतान पी0एफ0एम0एस0 के माध्यम से सीधे किसानों के बैंक खाते में कराया जा रहा है। खाद्य आयुक्त ने बताया कि प्रदेश मंे इस बार गेहूँ खरीद रिकाॅर्ड 1610637 किसानों द्वारा आॅनलाईन पंजीकरण कराया गया है जब कि गतवर्ष कुल 794484 किसानों द्वारा पंजीकरण कराया गया था
 
इस वर्ष अब तक 1230024 किसानों से खरीद करते हुये उनको मूल्य समर्थन का लाभ प्राप्त कराया गया। उल्लेखनीय है कि इस वर्ष खाद्य विभाग ने 14.20 लाख मी0टन, पी0सी0एफ0 ने 25.65 लाख मी0टन, यू0पी0पी0सी0यू0 ने 6.19 लाख मी0टन, यू0पी0एस0एस0 ने 4.25 लाख मी0टन, एस0एफ0सी0 ने 1.10 लाख मी0टन, मण्डी परिषद ने 1.49 लाख मी0टन तथा भारतीय खाद्य निगम ने 1.37 लाख मी0टन खरीद की है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

राष्ट्रीयता और नागरिकता में अंतर