अस्पताल में ऑक्सीजन बंद, 5 मिनट में 22 लोगों की मौत

आगरा। उत्तर प्रदेश के आगरा में स्थित पारस अस्पताल में ऑक्सीजन बंद करने के कारण 5 मिनट में 22 मरीजों की मौत हो गई है। अस्पताल में 5 मिनट का ऑक्सीजन मॉकड्रिल चल रहा था। इसी दौरान 22 कोरोना संक्रमित मरीजों ने दम तोड़ दिया है।
 
इस मामले के बाद उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। विपक्ष उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधने लगा है। पारस हॉस्पिटल के डॉक्टर आरिंजय जैन के अस्पताल में 26 अप्रैल तक 96 मरीज भर्ती थे। अस्पताल में ऑक्सीजन की व्यवस्था नहीं होने पर डॉक्टर ने 26 अप्रैल की सुबह सात बजे अपने अस्पताल में पांच मिनट का ऑक्सीजन मॉकड्रिल कर दिया। ऐसे में गंभीर हालत वाले 22 मरीजों की मौत हो गई। इस मामले में एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें डॉक्टर कह रहा है कि 25 और 26 अप्रैल को आगरा में हालात बेकाबू थे। अपने बॉस से बात की।
 
उन्होंने कहा कि मरीजों को डिस्चार्ज शुरू करो। ऑक्सिजन कही नहीं है, तब मैंने कई मरीजों से जाने के लिए कहा, लेकिन चार या पांच लोग ही माने बाकी तो पेंडुलम बने रहे, नहीं जाएंगे-नहीं जाएंगे। जब नहीं माने तो बॉस की बात मान ली और ऑक्सिजन बंद कर दी। मॉकड्रिल करने की सोचा, जिसमें पता चल जाएगा कि कौन मरेगा या नहीं मरेगा। मॉकड्रिल करते ही मरीज छटपटा गए और शरीर नीला पड़ने लगा। जब ऑक्सिजन रोकी तो 22 मरीज दम तोड़ चुके थे।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न