स्वतंत्र देव सिंह ने मुख्यमंत्री के साथ डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा पर किया नमन

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी ने आज जनसंघ के संस्थापक, देश की एकता और अखण्डता के लिए अपने प्राणों का उत्सर्ग करने वाले डा. श्मामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस पर कृतज्ञ श्रद्धाजंलि अर्पित की तथा प्रदेश में बूथ स्तर पर बृहद वृक्षारोपण अभियान का शुभारम्भ हुआ।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा पर पुष्पार्चन करके नमन किया। पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह ने लखनऊ महानगर के उत्तर मण्डल 5 के बूथ क्रमांक 292 पर पहुंचकर डा. मुखर्जी के चित्र पर पुष्पाजंलि अर्पित करके पौधारोपण भी किया। पार्टी के प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल ने पार्टी के राज्य मुख्यालय पर डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किए।  

स्वतंत्र देव सिंह ने प्रखर राष्ट्रवाद के प्रणेता अमर बलिदानी डा. श्मामा प्रसाद मुखर्जी को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि आजादी के बाद देश की एकता और अखंडता के लिए प्रथम बलिदानी योद्धा एवं भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस पर उन्हें शत-शत नमन।सिंह ने कहा कि डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने एक देश, एक विधान, एक निशान के लिए अपने प्राणों का बलिदान दिया। भारत की अखण्डता के लिए उनका बलिदान जन-जन के हृदय पटल पर अंकित है। उन्होंने कहा कि माँ भारती के मुकुट के लिए दिया गया प्राणों का बलिदान यह राष्ट्र और यह संगठन कभी क्षण भर के लिए भी विस्मृत नहीं कर सकेगा।

पार्टी का एक-एक कार्यकर्ता ‘‘जहां हुए बलिदान मुखर्जी-वह कश्मीर हमारा है‘‘ के दृढ़ संकल्प के साथ अपने ध्येय पथ पर बढते रहे और आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में जम्मूकश्मीर से अनुच्छेद 370 व 35ए समाप्त हुआ और सही अर्थो में कश्मीर हमारा हो सका। उन्होने कहा कि डा. मुखर्जी के बलिदान दिवस से पार्टी ने प्रदेश में वृक्षारोपण का अभियान बूथ स्तर पर प्रारम्भ किया है जो 6 जुलाई तक चलेगा। राष्ट्र की एकता और अखण्डता के साथ ही पार्टी सस्य श्यामलाम् मातरम् के जयघोष के साथ प्रकृति संरक्षण व संवर्धन के लिए वृक्षारोपण कर रही है।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन