केन्द्रीय राज्य मंत्री कौशल किशोर के आगमन पर भारतीय नागरिक परिषद ने स्वागत कर दी बधाई

लखनऊ। जन जन के नायक जननायक संसदीय क्षेत्र मोहनलालगंज से केन्द्रीय राज्य मंत्री कौशल किशोर के प्रथम लखनऊ आगमन पर भारतीय नागरिक परिषद ने स्वागत कर बहुत बहुत बधाई दी।मोहनलालगंज से लगातार दूसरी बार सांसद बने आम आदमी के लिए हमेशा ही मदद को तैयार रहने वाले जन लोकप्रिय सांसद।

कोरोना महामारी में पीड़ितों की मदद के लिए रात दिन एक कर कई लोगों को जीवन प्रदान करने वाले जन लोकप्रिय नायक, यहां तक पहुंचने से पहले कौशल किशोर 6 बार विधानसभा का चुनाव हारे हैं लेकिन हिम्मत नहीं हारे,और यही बात युवा पीढ़ी के लिए मिसाल बनी है। हजारों युवक और युवतियां कौशल किशोर के संघर्षों से प्रेरणा लेते हुए राजनीतिक जंग में तो उतर ही रहे हैं साथ ही समाज के लिए प्रेरणा स्रोत बने नशा मुक्त अभियान कौशल का से भी ज्यादा से ज्यादा संख्या में जुड़कर समाज को नशा मुक्त बनाने में अपना योगदान दे रहे हैं।

जैसा की सर्वविदित है माननीय कौशल किशोर ने पहला चुनाव लखनऊ जिले की सुरक्षित सीट महिलाबाद से 1989 में निर्दलीय के रूप में लड़ा चुनाव में हार होने के बावजूद उन्होंने हिम्मत नहीं छोड़ी और आम जनता के साथ उसके हक और अधिकार की लड़ाई सच्चाई और ईमानदारी से लड़ते रहे जिससे साल दर साल जनाधार में कितनी वृद्धि हुई की 2002 में उन्हें पहली बार राजनीतिक ब्रेक मिला और वे मलिहाबाद से विधायक बने वहां से शुरू हुआ सफर सांसद मोहनलालगंज के रूप में आगे बढ़ता हुआ आवास एवं शहरी मामलों के केंद्रीय राज्यमंत्री भारत सरकार बने।

निश्चित रूप से तंगहाली से शुरू हुआ सफर अपनी मेहनत लगन और उत्साह शक्ति से ना सिर्फ कामयाबी के परचम तक पहुंचा बल्कि देश के करोड़ों युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत बने। शिक्षक और कर्मचारियों के हितों के लिए हमेशा उनका साथ देने वाले उनके मान और सम्मान की लड़ाई हक और अधिकार की लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाने की कूवत रखने वाले माननीय कौशल किशोर को शिक्षक, कर्मचारी व भारतीय नागरिक परिषद के सभी सदस्यों की तरफ से बहुत-बहुत बधाई।

Popular posts from this blog

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

एकेटीयू में ऑफलाइन परीक्षा को ऑनलाइन कराए जाने के संबंध में कुलपति को सौंपा गया ज्ञापन