गुरूद्वारा नाका हिंडोला में मनाया गया श्री अकाल तख्त साहिब के सिरजना दिवस

लखनऊ। आज 02.07.2021 दिन शुक्रवार को अकाल तख्त साहिब के सिरजना दिवस गुरू सिंह सभा, ऐतिहासिक गुरूद्वारा नाका हिंडोला,लखनऊ में मनाया गया। प्रातः के दीवान में हजूरी रागी भाई राजिन्दर सिंह ने अपनी मधुरवाणी में शबद कीर्तन गायन कर संगत को निहाल किया ज्ञानी सुखदेव सिंह ने सिरजना दिवस पर कथा व्यख्यान करते हुए कहा कि अकाल तख्त साहिब सिखों की सर्वोच्च संस्था है।
 
अकाल तख्त साहिब एक प्रभावशाली इमारत है जो अमृतसर, पंजाब, भारत में स्वर्ण मंदिर की ओर जाने वाले मार्ग के ठीक सामने स्थित है। अकाल तख्त साहिब का मूल आकार गुरु हरिगोबिंद साहिब जी, भाई गुरदास जी और बाबा बुद्ध जी ने अपने हाथों से बनवाया था। आसन के निर्माण के लिए किसी अन्य व्यक्ति या कलाकार को नियोजित नहीं किया गया था। गुरु जी ने कहा कि गुरु का आसन अनंत काल तक पंथ की सेवा करेगा। गुरु जी ने जहांगीर के शाही फरमान की अवहेलना करते हुए चबूतरे की ऊंचाई बारह फीट कर दी कि खुद बादशाह के अलावा कोई भी व्यक्ति तीन फीट से ज्यादा ऊंचे चबूतरे पर नहीं बैठ सकता।
 
 
श्री गुरु हरगोबिंद साहिब जी नियमित रूप से सिखों के सभी विवादों के लिए राजसी गौरव और न्याय के सभी निशानों के साथ, तख्त साहिब के ऊंचे मंच पर बैठते थे। अकाल तख्त को हरिमंदिर साहिब से एक अंश नीचे बनाया गया था दृढ़ता और समर्पण का एक समान संतुलन श्री गुरु हरगोबिंद की दैनिक दिनचर्या में बनाया गया था, जिसमें वैकल्पिक रूप से मंदिर को अपने आध्यात्मिक कार्य और सिंहासन मंच के साथ संप्रभुता और अस्थायी अधिकार के दावे के साथ उजागर किया था। गुरु जी ने हरिमंदिर साहिब में पूजा के साथ दिन की शुरुआत की, दोपहर में अकाल तख्त से श्रोताओं को दर्शन देते। 4 जून 1984 को, भारतीय सेना ने अकाल तख्त के बाहरी हिस्से को नुकसान पहुंचाया।
 
उन्होंने एक विवादास्पद सैन्य अभियान में सिख आतंकवादियों को बाहर निकालने का प्रयास करते हुए, टैंकों के साथ अकाल तख्त की पवित्रता को नष्ट कर दिया और इसे मलबे में बदल दिया। जो ऑपरेशन ब्लूस्टार के नाम से जाना जाता है। यह तख्त सभी तख्तों में सबसे सर्वोच्च है। पिछली शताब्दी के दौरान पंथ (समुदाय) द्वारा स्थापित चार अन्य तख्त हैं। मंच का संवालन सतपाल सिंह मीत ने किया।लखनऊ गुरुद्वारा प्रबन्धक कमेटी के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह बग्गा ने नगरवासियों को श्री अकाल तख्त साहिब सिरजना दिवस की बधाई दी समाप्ति के उपरान्त चाय का लंगर वितरित किया गया।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां