शिवजी के जीवन में विलास नहीं, संन्यास है

अति भोगवाद भी व्यक्ति और विश्व की अशांति का प्रमुख कारण है प्राकृतिक वातावरण में संयम से जीवन जीने से प्रतिरोधात्मक क्षमता बढ़ती हैबल व तेज बढ़ता है। शिवजी के दर्शन करते समय उनके गुणों का मनन करें और आचरण करें। शिवजी के जीवन में विलास नहीं है, संन्यास है, भोग नहीं योग है इनके चित्त में काम नहीं राम हैं 

इन्होंने कामदेव को भस्म किया है विषय विष से भी ज्यादा खतरनाक है विष शरीर को मारता है, विषय आत्मा तक को प्रभावित करता है विष खाने से केवल एक जन्म, एक शरीर नष्ट होता है पर विषय का चस्का लग जाने पर तो जन्म-जन्मान्तर नष्ट हो जाते हैं। वेदानुसार प्राकृतिक वातावरण में संयम से जीवन जीने से प्रतिरोधात्मक क्षमता बढ़ती है बल व तेज बढ़ता है, जिससे आयु भी बढ़ती हैयोग के साथ रहने से चित्त भी प्रसन्न रहता है विषय आयु को तो नष्ट करता ही है साथ में चित्त में अशांति और पुनः प्राप्त करने की आशा भी उत्पन्न होती हैआज अति भोगवाद भी व्यक्ति और विश्व की अशांति का प्रमुख कारण है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां