अपना दल केन्द्रीय कार्यालय में मनाई गई भगत सिंह जयंती


लखनऊ । अपना दल केन्द्रीय कार्यालय में शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती मनाई गई। कार्यक्रम के दौरान उपस्थित लोगों ने शहीद भगत सिंह के व्यक्तित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला।
अपना दल प्रवक्ता एवं राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य एडवोकेट आर0बी0 सिंह पटेल ने कहा कि हंसते-हंसते देश पर अपनी जान न्यौछावर करने वाले शहीद-ए-आजम भगत सिंह की आज (28 सितंबर) को जयंती है। शहीद भगत सिंह का जन्म पंजाब प्रांत के लायपुर जिले के बगा में 28 सितंबर 1907 को हुआ था। देश के सबसे बड़े क्रांतिकारी और अंग्रेजी हुकूमत की जड़ों को अपने साहस से झकझोर देने वाले भगत सिंह ने नौजवानों के दिलों में आजादी का जुनून भरा था। महात्मा गांधी ने जब 1922 में चैरीचैरा कांड के बाद असहयोग आंदोलन को खत्म करने की घोषणा की तो भगत सिंह का अहिंसावादी विचारधारा से मोहभंग हो गया। उन्होंने 1926 में देश की आजादी के लिए नौजवान भारत सभा की स्थापना की।  23 मार्च 1931 की रात भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के साथ लाहौर षडयंत्र के आरोप में अंग्रेजी सरकार ने फांसी पर लटका दिया। श्री पटेल ने आगे बताया कि मृत्युदंड के लिए 24 मार्च की सुबह ही तय थी, मगर जनाक्रोश से डरी सरकार ने 23-24 मार्च की मध्यरात्रि ही फांसी पर लटका दिया था।
केन्द्रीय कार्यालय सचिव रामसनेही पटेल ने कहा कि आज के दौर में युवाओं को सरदार भगत सिंह से प्रेरणा लेने की जरूरत है। कार्यक्रम के दौरान अतहर हुसैन, इलाहाबाद जिलाध्यक्ष मानिक चंद पटेल, अनिल पाल, मो. नजीर, डा0 मुषीर अहमद, मुकुन्द पटेल एवं दिलीप पटेल सहित अन्य उपस्थित रहे।


Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें