Posts

प्रदेश में आज से 20 अप्रैल तक किया जा रहा है 'अग्नि सुरक्षा सप्ताह' का आयोजन

Image
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ के निर्देश पर प्रदेश में अग्निकाण्ड से होने वाली दुर्घटनाओं में जन-धन की हाॅनि में कमी लाने की दिशा में गम्भीरता पूर्वक प्रयास किये गये है। अग्निशमन सेवा द्वारा प्रदेश की विकसित सम्पदा एवं अर्थव्यस्था को सुदृढ़ बनाये रखने में उल्लेखनीय योगदान दिया गया है । अपर मुख्य सचिव, गृह, अवनीश कुमार अवस्थी ने उक्त जानकारी देते हुए आज यहां यह बताया कि प्रदेश मे आज से 20 अप्रैल तक अग्नि सुरक्षा सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष भारत सरकार द्वारा अग्नि सुरक्षा सप्ताह का संकल्प "Maintenance of Fire Safety Equipment is key to Mitigate Fire Hazards" (अग्नि सुरक्षा उपकरणों का रख रखाव आग के खतरों को कम करने के लिये महत्वपूर्ण है।) अग्नि सुरक्षा सप्ताह का उद्देश्य नागरिकों को अग्नि काण्डों के त्वरित नियंत्रण की जानकारी तथा अग्निकाण्ड से होने वाली क्षति के प्रति जागरूक करना व अग्निकाण्डों को रोकने तथा आग से बचावों के उपायों के सम्बन्ध में प्रशिक्षित करना है। अवस्थी ने बताया कि वर्ष 2020-21 मे अग्निशमन विभाग को 38 वाटर टेंडर, 35 जीप टोंइग वेह

कोरोना का भय प्रबल है, पर इस डर के आगे जीत है

Image
कोरोना से मचे हाहाकार के बीच पेड़ों से महुआ टपकने लगा है। भोर में मादक हवा वैसे बह रही है जैसे हर वर्ष बहती है। सुबह सुबह गेंहू काटती बनिहारिने जब हँसुआ खिंचती हैं तो एकसाथ तीन ध्वनियां निकलती हैं। हँसुआ की सरसराहट और बालियों की खनखनाहट के बीच यदि काटने वाली के हाथ की चूड़ियाँ भी खनक उठें तो मान लीजिये, यही प्रकृति का महा-रास है। सम्पूर्ण संसार में पसरी महामारी से मनुष्य को छोड़ कर और कोई भी जीव प्रभावित नहीं है। क्यों? इस क्यों का उत्तर बहुत कठोर है, पर... आम के पेड़ों पर टिकोरे जवाँ हो रहे हैं और उनको देख कर मचल उठने वाला बालमन भी! जिन बच्चों का बचपन अंग्रेजी स्कूलों में गिरवी रख दिया गया है, उन्हें छोड़ दें तो सचमुच के बच्चे अब भी बगीचों में ब्लेड और नमक ले कर मंडराने लगे हैं और घर के बड़े यह सोच कर खुश हैं कि गेंहू की फसल इस साल शानदार हुई है। तो क्या आपको नहीं लगता कि नववर्ष सचमुच बहुत सुंदर है? समूचे संसार को भय और दुख दे कर "प्रमादी" गया, आज से "आनन्द" है। आनन्द कितना आनन्द लाएगा यह वही जाने, पर नए सम्वत्सर से आशा तो हम अच्छे की ही करेंगे जी। सब शुभ होने की आशा प

समस्या चाहे कितनी बड़ी क्यों ना हो उसका कोई न कोई समाधान अवश्य होता है

Image
प्रकृति का एक शास्वत नियम है यहाँ सदैव एक दूसरे द्वारा अपने से दुर्बलों को ही सताया जाता है और अक्सर अपने से बलवानों को उनसे कुछ गलत होने के बावजूद भी छोड़ दिया जाता है। दुःख के साथ भी ऐसा होता है जितना आप दुखों से भागने का प्रयास करोगे उतना दुःख तुम्हारे ऊपर हावी होते जायेंगे।   दुःख बंदरों की तरह होते हैं जो पीठ दिखाने पर पीछा किया करते हैं और सामना करने पर भाग जाते हैं।समस्या चाहे कितनी बड़ी क्यों ना हो मगर उसका कोई न कोई समाधान तो अवश्य ही होता है। समस्या का डटकर सामना करना सीखो क्योंकि समस्या मुकाबला करने से दूर होगी मुकरने से नहीं।

योगी से लखनऊ संभल नहीं रहा, कैसे करे भरोसा कि संभालेंगे प्रदेश- अजय कुमार लल्लू

Image
लखनऊ। उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने योगी सरकार के कानून मंत्री द्वारा खुद उ0प्र0 शासन के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य वं प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा को पत्र लिखकर कोराना संक्रमण को नियंत्रित न कर पाने एवं चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने में अपनी ही सरकार की विफलता पर चिन्ता व्यक्त करने पर प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि कानून मंत्री की चिट्ठी ने योगी सरकार की कोरोना महामारी को रोकने की तैयारियों एवं उपलब्ध सुविधाओं की कलई खोल कर रख दी है। कोरोना संक्रमण को लेकर योगी सरकार की उदासीनता व संवेदनहीनता उजागर हो गई है। कोरोना कंट्रोल करने में योगी सरकार अपना भरोसा जनता के बीच खो चुकी है। कांग्रेस पार्टी द्वारा लगातार इस सम्बन्ध में योगी सरकार पर लगाये जा रहे आरोपों की पुष्टि हो गई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि लखनऊ के हालात बेहद खौफनाक एवं चिन्ताजनक हैं। उ0प्र0 सरकार के कानून मंत्री की यह चिट्ठी स्वास्थ्य व्यवस्था का हाल बयां कर रही है। उन्होने कहाकि कानून मंत्री ने अपने पत्र में साफ कहा है न एंबुलेंस है, न बेड और न ही जांच।

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में मिले 18021 नए मरीज

Image
लखनऊ ।   उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 18021 नए मरीज मिले, इसी के साथ अब कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 95980 है। अभी तक प्रदेश के विभिन्न जनपदों से 618293 कोरोना पेशेंट स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किए जा चुके हैं।     आज प्रदेश के विभिन्न जनपदों से 3474 कोरोना पेशेंट्स को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है, पूरे प्रदेश में अब तक कोरोना से 9309 लोगों की मौत हो चुकी है, बीते 24 घण्टों में उत्तर प्रदेश में कोरोना से 85 लोगों की मौत हुई है।

अखिलेश यादव ने कराया कोरोना टेस्ट

Image
  समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पिछले कई दिनों से हल्का बुखार महसूस कर रहे थे। मंगलवार को उन्होंने कोरोना की जांच करवाई। उन्होंने स्वास्थ्यकर्मी द्वारा सैंपल लेने की तस्वीर ट्विटर पर डाली और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा।   उन्होंने ट्वीट कर कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना से जो हाहाकार मचा है उसके लिए भाजपा सरकार को जवाब देना होगा कि उसने कोरोना पर नियंत्रण पाने का झूठा ढिंढोरा क्यों पीटा? टीका, टेस्ट, डॉक्टर, बेड, एंबुलेंस की कमी, टेस्ट रिपोर्ट में देरी व दवाई की कालाबाज़ारी पर भाजपा सरकार चुप क्यों है? उन्होंने पूछा कि स्टार प्रचारक कहां हैं?   अखिलेश यादव पिछले एक साल से योगी सरकार पर कोविड को लेकर ठीक से प्रबंधन न करने का आरोप लगा रहे हैं। प्रदेश में अब हर रोज 10 हजार से ऊपर कोरोना संक्रमित सामने आ रहे हैं। इस दौरान लोगों को अस्पतालों में बेड सहित अन्य सभी स्वास्थ्य सुविधाएं न मिलने की खबरें सामने आ रही हैं।

गनीमत है आम आदमी पार्टी के आवाज उठाने पर जाग गए योगी- सभाजीत सिंह

Image
लखनऊ। कोरोना से राजधानी में लोग सड़कों पर मर रहे हैं। यहां के डीएम ने यह सच्‍चाई खुद बयां की। इसके बाद सोमवार को आम आदमी पार्टी के यूपी प्रभारी संजय सिंह ने बेकाबू होते कोरोना संक्रमण को लेकर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और सरकार पर सवाल खड़े किए तो वायरस पर अंकुश लगाने के लिए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की ओर से नए दिशा-निर्देश जारी किए गए। गनीमत है आम आदमी पार्टी के आवाज उठाने पर योगी आदित्‍यनाथ जाग तो गए। ये बातें आप प्रदेश अध्‍यक्ष सभाजीत सिंह ने मंगलवार को जारी बयान में कहीं।   उन्‍होंने कहा कि सरकार की लापरवाही न सिर्फ जनता के लिए मुसीबत साबित हो रही है, बल्कि यह खुद सरकार के लिए भस्‍मासुर बन गई है। कानून मंत्री बृजेश पाठक, सुनील बंसल सहित भाजपा के कई नेता संक्रमित हो चुके हैं। सोमवार को आम आदमी पार्टी के नेता राज्‍यसभा सांसद संजय सिंह की ओर से कोरोना के नाम पर प्रदेश की जनता की जान से हो रहे खिलवाड़ का मामला प्रमुखता से उठाया गया तो योगी आदित्‍यनाथ की नींद टूटी। उनकी ओर से महामारी पर नियंत्रण को लेकर अब जिस संजीदगी का प्रदर्शन किया जा रहा है, उसकी जरूरत पहले से ह