लखनऊ विश्वविद्यालय के 62 वां दीक्षांत समारोह में स्वेता सिंह को मिला गोल्ड मैडल


लखनऊ | लखनऊ विश्वविद्यालय में उत्तर प्रदेश के राज्यपाल आनंदीबेन पटेल की अध्यक्षता में 62 वें दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में डॉ राजीव कुमार,उपाध्यक्ष नीति आयोग,भारत सरकार एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में प्रो दिनेश शर्मा,उपमुख्यमंत्री एवं उच्च शिक्षा मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार,डॉ रितु करीधाल ,मिशन निदेशक  चन्द्रयान -2  एवं प्रो सुरेन्द्र प्रताप सिंह,कुलपति लखनऊ विश्वविद्यालय उपस्थित हुए | दीक्षांत समारोह में कुल 196 बच्चों को सम्मानित किया गया | इसी समारोह में स्वेता सिंह को सतीश चन्द्र  विनोद चन्द्र मेमोरियल गोल्ड मैडल से सम्मानित किया गया | स्वेता सिंह को जन्तु विज्ञान में बी.एस.सी. फाइनल ईयर में उच्चतम अंक प्राप्त करने के उपलक्ष्य में गोल्ड मैडल दिया गया | समारोह में उपस्थित मुख्य अतिथि डॉ राजीव कुमार,उपाध्यक्ष नीति आयोग,भारत सरकार जो इसी विश्वविद्यालय के छात्र रहे हैं उन्हें मानद उपाधि से सम्मानित किया गया साथ ही डॉ रितु करीधाल ,मिशन निदेशक  चन्द्रयान -2 जो इसी विश्वविद्यालय के छात्रा रही हैं उन्हें भी मानद उपाधि से सम्मानित किया गया | 



समारोह को सम्बोधित करते हुए अपने अध्यक्षीय भाषण में माननीया राज्यपाल उ.प्र. एवं कुलाधिपति लखनऊ विश्वविद्यालय आनंदीबेन पटेल ने कहा कि आज के समारोह में मैडल पाने वालों में बेटियों की संख्या बेटों से ज्यादा है यह साबित करता है कि सरकार का नारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सार्थक हो रहा है | समाज में दहेज़ एक बड़ी कुप्रथा है जिसे आज के युवा पीढ़ी की खत्म कर सकते है | समारोह में उपस्थित मुख्य अतिथि डॉ राजीव कुमार,विशिष्ट अतिथि डॉ रितु करीधाल एवं प्रो दिनेश शर्मा ने भी अपने विचार व्यक्त किये | 



लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो सुरेन्द्र प्रताप सिंह ने समारोह में उपस्थित अतिथियों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि शिक्षा,साहित्य,विज्ञान कला,राजनीति,पत्रकारिता,प्रशासन,न्याय एवं चिकित्सा आदि अनेक क्षेत्रों में सभी छात्ररूपी रत्नो को कभी भुलाया नहीं जा सकता जिन्होंने इस विश्वविद्यालय को गौरवान्वित किया है | कुलपति प्रो सुरेन्द्र प्रताप सिंह ने पदक एवं उपाधि प्राप्त करने वाले सभी छात्र एवं छात्रों का अभिनन्दन करते हुए बधाई दी | बच्चों को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आप सभी से निवेदन करता हूँ कि संस्कारशील,ज्ञान एवं विचार को अपने साथ रखें और जीवन का हिस्सा बनायें |  


Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें