कृषि मंत्री, सूर्य प्रताप शाही ने कृषि विभाग में संचालित योजनाओं की समीक्षा की


लखनऊ | उत्तर प्रदेश के कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री,सूर्य प्रताप शाही ने कृषि विभाग में संचालित योजनाओं की समीक्षा की और कहा कि वर्तमान रबी मौसम में किसानों को सभी प्रकार के बीजों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाये। साथ ही उनके द्वारा प्राप्त किये गये बीजों एवं क्रय किये गये कृषि यंत्रों से सम्बन्धित अनुदान भी एक माह के अंदर उनके खातों में प्रेषित कर दिया जाये। इस वर्ष प्रदेश में अनुदान पर 2 लाख कृषि यंत्रों के वितरण के लक्ष्य के सापेक्ष क्रय पूर्ति पर निर्देश देते हुये कहा कि अभियान चलाकर वितरण कराया जाय। इसके अतिरिक्त योजना क्रियान्वयन की प्रक्रिया का सरलीकरण किया जाये, ताकि किसान सहज रूप से योजनाओं का लाभ उठा सकें।


श्री शाही विधान भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष में कृषि विभाग में संचालित योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। कृषि मंत्री को बताया गया कि प्रदेश के प्रत्येक सहकारी समिति तथा गन्ना समितियों पर 5-5 लाख रूपये के कृषि यंत्र उपलब्ध कराये जा रहे हैं। इस पर श्री शाही ने निर्देश दिये कि यंत्रों के सुचारू रूप से संचालन के लिये इन स्थलों पर कम से कम 55 एच0पी0 के ट्रैक्टर भी उपलब्ध कराये जायें। इसके अतिरिक्त कृषि विज्ञान केन्द्रों पर भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराये गये कृषि यंत्रों को चलाने के लिये ट्रैक्टर की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाय।



श्री शाही को बताया गया कि प्रदेश में उर्वरक की कहीं कोई कमी नहीं है। यूरिया की अतिरिक्त उपलब्धता भी सुनिश्चित करायी जा रही है। इस पर कृषि मंत्री ने कहा कि जिलों में गुणवत्तापूर्ण उर्वरक की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये लगातार कार्यवाही की जाये। इस अवसर पर यू0पी0 एग्रो की समीक्षा करते हुये श्री शाही ने कहा कि यू0पी0 एग्रो अपने कार्यक्षेत्र में विस्तार करे। साथ ही एक प्रबंध तंत्र का गठन किया जाये, जिसमें जनप्रतिनिधि को भी शामिल करें, ताकि उनके अनुभव और ज्ञान का उपयोग करते हुये यू0पी0 एग्रो को सक्षम स्वरूप प्रदान किया जा सके।


इस अवसर पर अपर कृषि निदेशक,राम शब्द जैसवारा एवं वी0पी0 सिंह, वित्त नियंत्रक, रमेश चन्द्र राय तथा संयुक्त निदेशक (ब्यूरो) आनन्द त्रिपाठी सहित वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।


Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें