संग का रंग मन को लगता है


संग का रंग मन को लगता है। बालक जन्म के समय निर्मल होता है लेकिन बड़े होने पर जैसा संग मिलता है, वैसा ही उसका जीवन बनने बिगड़ने लगता है।


आम के चारों ओर बबूल लगाओगे तो आम नहीं मिलेंगे विलासी का संग होगा तो मनुष्य विलासी हो जाएगा और विरक्त का संग होगा तो विरक्त हो जाएगा।


सत्संग से जीवन उजागर होता है और कुसंग से भ्रष्ट होता है। नित्य इच्छा करो कि शंकराचार्य सा ज्ञान, महाप्रभु जैसी भक्ति और शुकदेव जी जैसा वैराग्य हम सबको भी प्राप्त हो।


Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें