डॉ. हर्षवर्धन ने एम्स दिल्ली की राजकुमारी अमृत कौर ओपीडी ब्लॉक का किया उद्घाटन


केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज यहां राज्यमंत्री (एचएफडब्ल्यू) अश्विनी कुमार चौबे के साथ एम्स,नई दिल्ली के राजकुमारी अमृत कौर ओपीडीब्लॉक का उद्घाटन किया। इस अवसर पर एम्स के निदेशक प्रो. आर. गुलेरिया और एम्स के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।


डॉ. हर्षवर्धन ने इस अवसर पर इस बात पर खुशी जताई कि नई ओपीडी का नाम प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी और देश की पहली स्वास्थ्य मंत्री राज कुमारी अमृत कौर के नाम पर रखा गया है। कोविड-19 के खिलाफ देश के सामूहिक प्रयासों के बारे में विस्तार से बताते हुए उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे हम महामारी के खिलाफ लड़ाई जीतने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोविड से पीड़ित रोगियों में 2 प्रतिशत से कमआईसीयू में भर्ती हैं। हमारे लैब नेटवर्क को मजबूत किया गया है। उन्होंने कहा कि हमने प्रयोगशालाओं की संख्या में तेजी से वृद्धि की है जो जनवरी 2020 में महज एक से बढ़कर आज1234 हो गई हैं। आज की तारीख में हमप्रति दिन 3.26 लाख से अधिक नमूनों का परीक्षण कर रहे हैं। डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि इस क्षमता को आने वाले 12 हफ्तों में प्रति दिन 10 लाख परीक्षणों तक बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह उपचार के बाद स्वस्थ होने के उत्तरोत्तर बढ़ते मामलों और ठीक होने वाले लोगों की संख्या तथा संक्रमित मामलों के बीच बढ़ती खाई (2,81,668)के साथ मेल खाता है। डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि यह आंकड़ा दर्शाता है कि ‘संपूर्ण सरकार’ की कार्यनीति के तहत अपनाए गए एक ग्रेडेड और सक्रिय दृष्टिकोण के अंतर्गत उठाए गए कदमों का सकारात्मक असर दिखने लगा है।


डॉ. हर्षवर्धन ने एम्स के निदेशक और अन्य अधिकारियों को भी निर्देश दिया कि वे जच्चा-बच्चा विभाग,बुजुर्ग विभाग और सर्जरी विभाग का संचालन जल्द शुरू करें ताकि लोग जल्द से जल्द स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकें। उन्होंने अधिकारियों और विभागाध्यक्षों से आग्रह किया कि वे प्रत्येक विभाग में विस्तृत और सामूहिक विचार मंथन सत्र करें जिसमें उन अभिनव कदमों का मूल्यांकन किया जाए जो यह सुनिश्चित करने के लिए उठाए जा सकते हैं कि एम्स नई दिल्ली में आने वाले सभी रोगियों को बेहतरीन स्वास्थ्य सेवा मिले। उन्होंने कहा कि देखभाल की खराब / घटिया गुणवत्ता और मरीजों की असुविधा कतई बर्दाश्त नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने उनसे विचार-मंथन करने और रोगी के अनुकूल सुधारों का प्रस्ताव देने का आग्रह किया।


स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने अत्याधुनिक न्यू ओपीडी भवन के निर्माण में शामिल पूरी टीम को धन्यवाद दिया और आशा व्यक्त की कि यह निश्चित रूप से रोगी देखभाल सुविधाओं को बढ़ावा देगा। उन्होंने कहा कि देश के हर हिस्से के नागरिकों को एम्स दिल्ली में भरोसा है क्योंकि यह देखभाल की सर्वोत्तम गुणवत्ता प्रदान करता है और एम्स को इस शानदार परंपरा को बरकरार रखना चाहिए। श्री चौबे ने कोरोना योद्धाओं के लिए उच्च सम्मान जाहिए किए जिन्होंने कोविड​​-19 के खिलाफ संघर्ष में अपने जीवन का बलिदान दिया है।


मंत्रियों ने कई ओपीडी का निरीक्षण किया और मरीजों से बातचीत कर मिल रही सुविधाओं का जायजा लिया।


लगभग 6300 वर्गमीटर के क्षेत्र में निर्मित राजकुमारी अमृता कौर ओपीडी भारत का सबसे बड़ा ओपीडी है। नए आरएके ओपीडी ब्लॉक में स्मार्ट लैब भी है जिसे 15 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। यह एक एकल एकीकृत वर्कफ़्लो में विभिन्नविश्लेषकों और प्रौद्योगिकियों को जोड़ता है। यहाँपूर्व-विश्लेषणात्मक,  विश्लेषणात्मक और विश्लेषण के बाद की स्थितिसभी एक रोबोट ट्रैक के जरिए भौतिक रूप से जुड़े हुए हैं और तकनीकी रूप से एकीकृत हैं। इसमें प्रतिदिन 2 लाख परीक्षणों तक विस्तार किए जाने की क्षमता है। प्रति दिन 10,000 से अधिक रोगियों की जांच क्षमता के साथ यह एशिया प्रशांत में इस तरह के ट्रैक-आधारित प्रयोगशाला स्वचालन प्रतिष्ठानों में से एक है और इसे एक वर्ष से भी कम समय में शुरू किया गया है।


Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें