विषय विष से भी ज्यादा खतरनाक है


श्रावण मास में शिवजी के दर्शन करते समय एक बात और सीखने योग्य है। शिवजी के जीवन में विलास नहीं है, संन्यास है, भोग नहीं योग है। इनके चित्त में काम नहीं राम हैं। इन्होंने कामदेव को भस्म किया है।          


विषय विष से भी ज्यादा खतरनाक है। विष शरीर को मारता है, विषय आत्मा तक को प्रभावित करता है। विष खाने से केवल एक जन्म, एक शरीर नष्ट होता है पर विषय का चस्का लग जाने पर तो जन्म- जन्मान्तर नष्ट हो जाते हैं।


संयम से जीवन जीने से आयु भी बढती है। योग के साथ रहने से चित्त भी प्रसन्न रहता है। विषय आयु को तो नष्ट करता ही है साथ में चित्त में अशांति और पुनः प्राप्त करने की आशा भी उत्पन्न होती है। आज अति भोगवाद भी व्यक्ति और विश्व की अशांति का प्रमुख कारण है।


Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें