जगत में तीन प्रकार के जीव होते हैं


जगत में तीन प्रकार के जीव होते हैं। प्रथम प्रवाही जीव, दूसरे साधना मार्गीय जीव और तीसरे कृपामार्गी जीव। 


श्रीहरि ने इच्छा प्रधान वाली प्रवाही सृष्टि को मन से उतपन्न किया। यह भगवान की आसुरी सृष्टि है। ऐसे जीव तो यहाँ आकर मात्र अपनी ऐषणाओं की पूर्ति ही करते हैं। ये भौतिकवादी होते हैं।


संसार सागर में थपेड़े खाने के लिए मात्र पुनरपिजननं पुनरपि मरणं के विधान से बंधे रहना इनकी नियति होती है। यदि कोई इन्हें सन्मति देना भी चाहे तो भी उसे वे ग्रहण नहीं करते।


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार