जीवन का वास्तविक उद्देश्य कुटुम्ब भरण नहीं अपितु भगवद भक्ति है


आज का जीव अपने परम लक्ष्य को भूल बैठा है। वह सांसारिक सुखों को प्राप्त करना एवं अपने कुटुम्ब का भरण पोषण करने को ही अपने जीवन का प्रमुख लक्ष्य मानकर बैठा है।


इसकी पूर्ति के लिए वह अनुचित साधनों का भी प्रयोग करता है। परिवार की ममता के फेर में पड़कर न करने योग्य चोरी आदि कुकर्मों को भी कर बैठता है।


अपने कुटुम्ब के भरण पोषण में अपनी पूरी आयु गंवा देता है। स्मरण रहे जीवन का वास्तविक उद्देश्य कुटुम्ब भरण नहीं अपितु भगवद भक्ति है।


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार