पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर जब खुशहाल व समृद्ध होंगे, तभी समाज खुशहाल होगा और अर्थव्यवस्था सुदृढ़ होगी - मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अर्थव्यवस्था और समाज की व्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण विभिन्न टेªडों के हस्तशिल्पियों, कारीगरों तथा अन्य पारम्परिक उद्योगों से जुड़े लोगों को वर्तमान सरकार ने समाज की मुख्य धारा में लाने का प्रयास किया है। पहले यह लोग उपेक्षित थे। उनके पास हुनर था, लेकिन मंच नहीं था। कौशल था, लेकिन प्रोत्साहन नहीं था। राज्य सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा ‘एक जनपद एक
उत्पाद’ योजना लागू की, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों को लाभान्वित किया गया। उन्होंने कहा कि पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर जब खुशहाल व समृद्ध होंगे, तभी समाज खुशहाल होगा और अर्थव्यवस्था सुदृढ़ होगी। वित्तीय समावेशन के साथ कारीगरों व हस्तशिल्पियों को जोड़े जाने से आत्मनिर्भर भारत अभियान को मजबूती मिलेगी।


मुख्यमंत्री अपने सरकारी आवास पर ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत टूल किट व प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत ऋण वितरण कार्य क्रम को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने प्रतीक स्वरूप 10 लाभार्थियों को टूल किट तथा मुद्रा ऋण बैंक स्वीकृत पत्रों का वितरण किया। पूरे प्रदेश में ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा मुद्रा योजना के तहत 4,500 लाभार्थियों को 60 करोड़ रुपए का ऋण वितरित किया गया। मुख्यमंत्री ने विभिन्न जनपदों के लाभार्थियों के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद भी किया। इस अवसर पर एम0एस0एम0ई0 क्षेत्र के विकास के लिए उत्तर प्रदेश सरकार और सिडबी के बीच एम0ओ0यू0 का आदान-प्रदान किया गया।


मुख्यमंत्री ने भगवान विश्वकर्मा की जयन्ती तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर सभी को बधाई देते हुए कहा कि ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के माध्यम से प्रशिक्षित हुए लाभार्थियों को प्रशिक्षण प्रमाण-पत्र, टूल किट तथा स्वरोजगार स्थापना के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत ऋण वितरण का कार्य क्रम सराहनीय है। उन्होंने कहा कि भगवान विश्वकर्मा विश्व के शिल्पी के रूप में जाने जाते हैं। उनकी जयन्ती के अवसर पर कारखानों और वर्क शाॅप्स में कार्य क्रम आयोजित किए जाते हैं। यह कार्य क्रम पूजा व श्रद्धा के अलावा ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ को और बल दे सकें, इस उद्देश्य से आज का यह कार्य क्रम आयोजित किया गया। उउन्होंने कहा कि महात्मा गांधी जी की 150वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में इस कार्य क्रम के माध्यम से ग्राम स्वराज्य की संकल्पना भी साकार हो रही है। यह कार्य क्रम भारत को समर्थ, सशक्त व आत्मनिर्भर बनाने का प्रतीक है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर समाज की मुख्य धारा से जुड़कर आत्मनिर्भर व स्वावलम्बी बन रहे हैं। शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के पारम्परिक कारीगर जैसे बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनकर, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार,हलवाई, मोची एवं राज मिस्त्री की आजीविका के साधनों का सुदृढ़ीकरण ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के माध्यम से किया जा रहा है। पहले से विद्यमान शिल्पियों की श्रेणी में 03 नई श्रेणियों-भड़भूजा, धोबी तथा शिल्पकार को भी सम्मिलित किया गया है। कारीगरों की कौशल वृद्धि के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने के उपरान्त उन्हें टूल किट वितरित की जाती है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि एम0एस0एम0ई0 के तहत 20 लाख इकाइयों को ऋण वितरित किया जाएगा। केंद्र सरकार के आर्थिक पैकेज के तहत प्रदेश के 10 लाख ‘स्ट्रीट वेण्डर्स’ को लाभान्वित कराने का लक्ष्य रखते हुए कार्य योजना बनायी जाए। उन्होंने स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए 05 एम्बुलेंस उपलब्ध कराए जाने पर धन्यवाद देते हुए कहा कि इस समय अनलाॅक व्यवस्था के चैथे चरण से हम सभी गुजर रहे हैं। आर्थिक और विकास की गतिविधियां संचालित हो रही हैं। ऐसे में, कोविड-19 के दृष्टिगत सावधानी व सतर्कता बरतते हुए कार्य  किया जाए। सर्विलांस और काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग पर फोकस किया जाए।


मुख्यमंत्री जी ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जनपद आगरा के गजेन्द्र सिंह (बढ़ई), जनपद झांसी की नीतू (सुनार), जनपद बिजनौर के उदित कुमार राजपूत (हलवाई) तथा जनपद भदोही के प्रमोद कुमार (हलवाई), जनपद वाराणसी के लाभार्थी (कुम्हार), जनपद गाजियाबाद के महेश कुमार (कुम्हार) से संवाद किया। लाभार्थियों ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि उन्हें ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत प्रशिक्षण एवं टूल किट प्राप्त हो चुकी है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत ऋण भी उपलब्ध हुआ है। मुख्यमंत्री ने लाभार्थियों को बधाई व शुभकामनाएं दीं।


इस अवसर पर एम0एस0एम0ई0 मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल मार्गदर्शन व नेतृत्व में एम0एस0एम0ई0 सेक्टर को नई ऊंचाइयों तक ले जाया जाएगा। इसी दिशा में कार्य  किया जा रहा है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत बड़ी संख्या में विभिन्न ट्रेडों से जुड़े लोगों को लाभान्वित किया जाएगा।


एम0एस0एम0ई0 राज्य मंत्री चैधरी उदय भान सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रति आभार व धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि भारत की संस्कृति और परम्परा से जुड़ते हुए आत्मनिर्भर बनने की दिशा में ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा ओ0डी0ओ0पी0 योजना महत्वपूर्ण साबित हो रही है। एम0एस0एम0ई क्षेत्र का योगदान भारत को आत्मनिर्भर बनाएगा।


इस अवसर पर विभिन्न बैंकों के अधिकारीगणों ने आश्वस्त किया कि एम0एस0एम0ई0 की 20 लाख इकाइयों को ऋण वितरित किया जाएगा।ओ0डी0ओ0पी0 योजना के तहत बैंकों द्वारा निरन्तर सहयोग किया जा रहा है।


 


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार