आनलाइन ठगी करने वाले गिरोह के सगरना सहित 12 अभियुक्त गिरफ्तार , लगभग दस हजार क्रेडिट /डेबिट कार्ड का डिटेल बरामद


लखनऊ। एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को Shine.com & quikr.com/jobs  से बेरोजगार युवक युवतियों का डेटा चोरी कर विभिन्न बैंकों के एच0आर0 बनकर नौकरी देने का लालच देकर http://shinejobsselection.in व http://refund.shineclickjob.com जैसे फिशिंग लिंक Whatsapp के माध्यम से भेजकर Qwick Support & Anydesk साफ्टवेयर का प्रयोग कर क्रेडिट/डेबिट कार्ड की डिटेल प्राप्त कर आनलाइन ठगी करने वाले गिरोह के सगरना शादाब खान उर्फ रोहन राठौर उर्फ फरहान पुत्र महताब खान, निवासी बी 508 गली न0 4, राजीव नगर, थाना हर्ष बिहार, दिल्ली सहित 12 अभियुक्तों अंकित कुमार,महबूब ,गुरप्रीत,गुंजन सैन,शिवानी शर्मा,अना ,इमराना ,अर्पिता,मानसी,ज्योती और प्राची को आरडीसी राजनगर जनपद गाजियाबाद से गिरफ्तार करने मे उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई है। अभियुक्तों के पास से 03 अदद लैपटाप, 19 अदद मोबाइल, 04 अदद एटीएम कार्ड, 01 अदद आधार कार्ड, 02 अदद पैनकार्ड, 01 अदद डीएल, 01 अदद निवार्चन कार्ड,01 अदद वाईफाई डोंगल, 05 अदद पेज कस्टमर डेटा व लैपटाप मे लगभग दस हजार कस्टमर के क्रेडिट /डेबिट कार्ड का डिटेल, 12 अदद रजिस्टर ( बेरोजगारों से ठगी गये रूपयों का हिसाब), 01 अदद कार टाटा टियागो (डीएल-10 सीएच 9717) बरामद किया गया है।


एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को काफी समय से फिशिंग लिंक Whatsapp & Email के माध्यम से भेजकर  Qwick Support & Anydesk जैसे रिमोट एक्सेस साफ्टवेयर का प्रयोग कर क्रेडिट/डेबिट कार्ड की डिटेल प्राप्त कर आनलाइन ठगी करने वाले गिरोहों के सक्रिय होने की सचूनाएं प्राप्त हो रही थी । इस सम्बन्ध में विशाल विक्रम सिंह, प्रभारी पुलिस अधीक्षक, एस0टी0एफ0, उ0प्र0 के पर्यवेक्षण मे एस0टी0एफ0 मुख्यालय स्थित साइबर टीम को अभिसूचना संकलन एवं कार्यवाही हेतु निर्देशित किया।


अभिसूचना संकलन के माध्यम से ज्ञात हुआ कि रहीम नगर, महानगर, लखनऊ निवासी शिवानी वारा ने नौकरी के लिए  Shine.com पर आनलाइन आवेदन किया था। दिनांक 19/08/2020 को एक लडकी द्वारा काल कर बताया गया कि मैं axis bank से HR राधिका बात कर रही हूँ आपने  Shine.com पर आनलाइन आवेदन किया था यदि आप axis bank की जाब मे इंटरेस्टेड हैं तो मैं आपको Whatsapp पर एक लिंक भेज देती हूँ आपको अपना फार्म  भरना होगा व रजिस्ट्रेशन करने के लिए 10 रूपये आवेदन शुल्क के रूप मे क्रेडिट/डेबिट कार्ड से पेमेंट करने होंगे । शिवानी वारा द्वारा जाब के लिए इंटरेस्टेड होने पर 10 रूपये आवेदन शुल्क के रूप मे क्रेडिट/डेबिट कार्ड से पेमेंट करने के लिए हाँ करने पर उपरोक्त फर्जी HR राधिका द्वारा Whatsapp पर http://shinejobsselection.in का लिंक भेज दिया गया। लिंक को ओपेन कर शिवानी वारा द्वारा फार्म भरकर 10 रू का पेमेंट डेबिट कार्ड से किया गया परन्तु शिवानी के एकाउंट से रू 1000/ कट गये, जिसकी शिकायत शिवानी द्वारा की गयी तो उपरोक्त फर्जी  HR राधिका द्वारा अपने सीनियर रिफंड डिपार्टमेंट से बात कराकर रूपये रिफंड करने के लिए Whatsapp पर एक लिंक http://refund.shineclickjob.com भेजा और उस सीनियर रिफंड डिपार्टमेंट द्वारा बताया गया कि आपको लिंक पर 990रू भर देना है आपको रिंफड हो जायेगा परन्तु ऐसा करने पर इस बार 49000/ रूपया कट गया, जिसकी शिकायत फिर से करने पर उपरोक्त व्यक्ति द्वारा बताया गया कि मैम गलती से कट गया है आप शिकायत करेंगी तो मेरी नौकरी चली जायेगी आप कल रिफड वाले लिंक को दुबारा खोलें और कन्फर्मेशन कोड मुझे बताएं मैं 49990 रूपया तुरन्त आपको वापस कर दूंगा। इसके बाद दिनांक 20/08/2020 को फिर लिंक रिफंड वाला लिंक खोलकर 49990/रू डालने पर 49000/रू फिर से कट गये इससे शिवानी को अब लगा कि उनके साथ ठगी हो रही है। उपरोक्त घटना के परिपेक्ष्य में शिवानी वारा उपरोक्त द्वारा थाना महानगर, जनपद लखनऊ में मु0अ0स0 353/2020 धारा 420 भादवि पंजीकृत कराया गया। विवेचना के क्रम में उपरोक्त मुकदमे मे धारा 468/471/34 भादवि व 66 सूचना प्रोद्यौगिकी अधिनियम की बढ़ोत्तरी की गयी। उपरोक्त सूचना को इलेक्ट्रानिक सर्विलांस के माध्यम से विकसित करते हुए मुखबिर खास द्वारा मिली सूचना के आधार पर दिनांक 13/10/2020 को समय करीब 19ः45 बजे गैंग के सरगना सहित उपरोक्त अभियुक्तों को ए-14/303 देविका चैम्बर, आरडीसी राजनगर, जनपद गाजियाबाद से एसटीएफ व थाना महानगर की संयुक्त टीम द्वारा गिरफ्तार किया गया, जिनसे उपरोक्त बरामदगी हुई।


पूछताछ में उपरोक्त गिरफ्तार गैंग के सरगना शादाब खान ने बताया कि मैंने 2016 मे 12वीं पास करने के बाद कानसेंट्रिक्स कम्पनी सेक्टर 62 नोएडा मे रिलायंस जियो के कस्टमर केयर मे एक्जीक्युटिव के पद पर ज्वाइन कर 2017 तक काम किया। इसके बाद 2018 मे कनवर्जेज इंडिया प्रा0लि0 गुड़गांव मे डेल के कस्टमर केयर मे एक्जीक्युटिव के पद पर जुलाई 2019 तक काम किया। इसके बाद अक्टूबर 2019 में कम्प्युसाफ्टेक कम्पनी से0 135 नोएडा मे ज्वाइन किया यह कम्पनी टेक सर्पोट का काम करती थी यहा पर मुझे कुछ तकनीकी जानकारियां हो गयी, इसके बाद मैने अपना खुद का काल सेंटर जुलाई 2020 में उपरोक्त पते पर खोल लिया। इस काल सेंटर के माध्यम से फिशिंग लिंक Whatsapp के माध्यम से भेजकर Qwick Support & Anydesk साफ्टवेयर का प्रयोग कर क्रेडिट/डेबिट कार्ड की डिटेल प्राप्त कर आनलाइन ठगी का काम प्रारम्भ कर दिया। मैने फिशिंग लिंक भेजने के लिए shinejobsselection.in Website  बनवायी। इस कालसेंटर मे प्रयोग होने वाले सिमों को मै फर्जी  नाम पते पर लेता था और हर 15 दिन में सिम बदल देता था। shinejobsselection.in Website मेरे दोस्त शुभम उर्फ स्काई वर्मा ने डेवलप करायी थी। हमारी वेबसाइट पर जो भी कस्टमर जाब के लिए रजिस्ट्रेशन करने के लिए क्रेडिट/डेबिट कार्ड की डिटेल डालते थे वह Website पर हमे दिखायी देती रहती थी उस Website को हमारे सेंटर से गुरप्रीत व गुंजन माॅनिटर करती थी और कार्ड डिटेल सेव कर लेती थी। इसी डिटेल का प्रयोग कर हम लोग gyftr.com & woohoo.in Website से । Amazon गिफ्टबाउचर खरीदते थे, गोल्ड लोन चुकाते थे व आनलाइन शापिंग करते थे इन सभी मे फर्जी खतों का प्रयोग किया जाता था जिससे पुलिस हमे खोज न सके । फिशिंग रजि0 लिंक http://shinejobsselection.in व फिशिंग रिफंड लिंक http://refund.shineclickjob.com को भेजने व कस्टमर को संतुष्ट करने का काम अंकित व शिवानी का था बाकी सभी टैलीकालर काल कर कस्टमर को 10 रू का रजि0 करने पर नौकरी मिलने का झांसा देकर लिंक पर कार्ड डिटेल शेयर कराते थे।


उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्तों मे से 10 अभियुक्तों को 41(1) ए सीआरपीसी का नोटिस मौके पर दिया गया। शेष दो अभियुक्तों शादाब व अंकित को थाना महानगर जनपद लखनऊ में पंजीकृत मु0अ0स0 353/2020 धारा 420/468/471/34 भादवि व 66 सूचना प्रोद्यौगिकी अधिनियम में दाखिल कर आगे की कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार