भौतिक सत्यापन के उद्देश्य से जिलाधिकारी द्वारा एरा मेडिकल कॉलेज का किया गया आकस्मिक निरीक्षण


लखनऊ। कोविड 19 रोगियों को उपलब्ध कराए जा रहे उपचार के भौतिक सत्यापन के उद्देश्य से आज जिलाधिकारी द्वारा पूरे हास्पिटल का भ्रमण किया गया। निरीक्षण में हास्पिटल परिसर के अंदर व बाहर पर्याप्त साफ सफाई पाई गई तथा सेनेटाइज़ेशन का कार्य भी होता पाया गया। जिसके बाद जिलाधिकारी द्वारा कंट्रोल रूम का भी निरीक्षण किया गया। समस्त कोविड वार्डो की मॉनिटरिंग इंट्रीग्रेटेड मॉनिटरिंग सिस्टम के द्वारा सीसीटीव कैमरों के माध्यम से होती पाई गई।


जिलाधिकारी द्वारा कंट्रोल रूम से ही कोविड वार्ड में रोगियों को किस प्रकार का उपकार उपलब्ध कराया जा रहा है उसका निरीक्षण किया। साथ ही जिलाधिकारी द्वारा कंट्रोल रूम से ही कोविड 19 के रोगियों से संवाद भी किया और उनको दिए जा रहे उपचार के बारे में फीड बैक भी लिया। ज़िलाधिकारी द्वारा कड़े निर्देश दिए गए कि साफ सफाई के साथ साथ रोगियों के खान पान का भी विशेष ध्यान रखा जाए और अच्छे से अच्छा उपचार उपलब्ध कराया जाए।


प्रो0 फरीदी प्रधानाचार्य ऐरा मेडिकल कालेज एण्ड हास्पिटल लखनऊ द्वारा अवगत कराया गया है कि कोविड के आगामी चरण हेतु उनके यहां ट्रायज रूम की व्यवस्था करा ली गई है जिसके कारण मरीजों को एम्बुलेंस से सीधे ट्रायल रूम में रखा जाता है। बताया गया कि ट्रायज रूम में मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, टेक्निशियन, वार्ड ब्वायज सफाई कर्मचारी उपस्थित रहते हैं। इसके अतिरिक्त वेंटीलेटर आक्सीजन व जीवन रक्षक दवायें उपलब्ध रहती हैं। निरीक्षण के दौरान चिकित्सकों द्वारा अवगत कराया गया कि कुछ कोविड मरीजों की पोर्टल में इंट्री नहीं हो पा रही है जिसके कारण समस्या उत्पन्न हो रही है।


उक्त के सम्बन्ध में अधोहस्ताक्षरी द्वारा पत्राचार किये जाने के निर्देश दिये गये। यह भी अवगत कराया कि फस्र्ट सेमेस्टर की कक्षायें संचालित होने वाली है उसके लिए क्वारंटाइन की व्यवस्था हेतु अनुरोध किया गया। परिसर में समुचित साफ-सफाई पायी गयी एवं सेनेटाईजर का छिड़काव समय-समय पर किया जा रहा है। इन सब के अतिरिक्त जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि कोविड 19 के द्वितीय चरण के दृष्टिगत सभी व्यवस्थाओं को पहले से ही सुनिश्चित कर लिया जाए साथ ही मृत्यु दर को और कैसे कम किया जाए उसके सम्बंध में भी कार्ययोजना बनाना सुनिश्चित कराया जाए।


Popular posts from this blog

त्वमेव माता च पिता त्वमेव,त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव!

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।