योगी राज में हत्यारो और बलात्कारियो का अपराध नहीं बल्कि उनकी जाति देखी जाती है:- संजय सिंह


लखनऊ। बलिया हत्याकाण्ड में बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह के विवादास्पद बयानों पर आम आदमी पार्टी उत्तर प्रदेश के प्रभारी और राज्य सभा सांसद संजय सिंह ने योगी सरकार को निशाने पर लिया| उन्होंने कहा की जयप्रकाश पाल हत्या में दोषी आरोपी धीरेन्द्र प्रताप सिंह के समर्थन में दिए गए बैरिया बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह  के बयानों से बेशर्मी झलकती है| उनके बयान खुलेआम जातीय हिंसा भड़काने जैसे है| योगी आदित्यनाथ से सवाल पूछते हुए उन्होंने कहा की क्या पाल समाज ने उनको वोट देकर गलती की क्या योगी राज में उनको जीने का हक़ नहीं है? 


विधायक सुरेंद्र सिंह का जाति वाला बयान एक बार फिर से उस बात पर मोहर लगाते है जो प्रदेश की 14 फीसद जनता पिछले चार साल से कह रही की प्रदेश में एक जाति विशेष की सरकार है| सिर्फ 6 प्रतिशत वालो की ये सरकार बाकी 14 प्रतिशत की लगतार उपेक्षा कर रही है। प्रदेश प्रभारी ने शानिवार को हाथरस की गुड़िया के परिवार से बात कर उनको अपने साथ अपने दिल्ली स्थित आवास पर रखने का अनुरोध किया और  यह जानकारी उन्होंने ट्वीट कर साँझा करी| उन्होंने पीड़िता के चाचा से बात कर उनको कहा की परिवार को योगी राज के खौफ में रहने की जरुरत नहीं है उनके घर के दरवाज़े हमेश परिवार के लिए खुले है|


शानिवार को बिजनौर में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में पहुंचे प्रदेश प्रभारी ने मेडी से बात करते हुए पार्टी के संगठन विस्तार पर खुल कर बात करी| उन्होंने बताया की पार्टी पूरे देश में अपने संगठन के विस्तार में जुटी हुई है । गोवा, महाराष्ट्र, कर्नाटक, हिमाचल,पंजाब, राजस्थान, बिहार, उड़ीसा में संगठन को विस्तार दिया जा रहा है और उत्तर प्रदेश को पार्टी ने प्रमुखता से लिया है। प्रदेश को पार्टी एक बड़ा केंद्र बनाकर मजबूत संगठन के निर्माण के लिए हर जिले में जुटी हुई है। बिजनौर जनपद में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में पंचायत में पदाधिकारी रहे व चुनाव लड़ चुके जिला पंचायत सदस्य, पूर्व प्रधान, बीडीसी, सामाजिक कार्यकर्ताओं समेत भाजपा,बसपा,सपा के सैकड़ो लोग पार्टी में शामिल हुए। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद और उत्तर प्रदेश के प्रभारी संजय सिंह ने सभी को आम आदमी पार्टी की टोपी पहनाकर पार्टी में शामिल कराया। 


उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा कि बाराबंकी में हाथरस कांड से भी भयावह घटना हुई। हमारे देश की सेना, दुश्मन देश के सैनिकों का शव भी उसके देश और परिवार के हवाले करती है, लेकिन हाथरस और बाराबंकी में दलित बच्ची के मां-बाप गिड़गिड़ाते रहे, भीख मांगते रहे, कहते रहे कि वैदिक विधि विधान से अंतिम संस्कार करने दीजिए, लेकिन योगी सरकार ने बच्चियों को मिट्टी दिए जाने के बजाय रात में पेट्रोल छिड़ककर जलवा दिया। चित्रकूट में एक गरीब दलित बिटिया के साथ गैंग रेप किया गया। पुलिस ने उसकी एफआईआर तक नहीं लिखी। बेटी न्याय के लिए भटकती रही। मजबूर होकर उसने आत्महत्या कर ली। प्रतापगढ़ में परेशान,छेड़छाड़ से तंग बिटिया ने आत्महत्या कर ली। योगी के गृह जनपद गोरखपुर में दबंगों ने एक बिटिया को मारा पीटा। उसे पुलिस और सरकार से न्याय नहीं मिला तो उसने आत्महत्या कर ली। पूरे प्रदेश में मासूम बच्चियों के साथ आए दिन हत्या और बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं।


हाथरस की गुड़िया के मामले में हम लोगों ने देखा कि पूरी की पूरी सरकार बलात्कारियों के समर्थन में खड़ी हो गई, सरकार ने अपनी पूरी ऊर्जा इस बात पर लगा दी कि कैसे बच्ची और उसके परिवार को बदनाम किया जाए, उसका चरित्र हनन किया जाए। एक के बाद एक चित्रकूट, प्रतापगढ़, बलरामपुर,लखीमपुर खीरी, जौनपुर, आजमगढ़ ,गोरखपुर में जिस तरह हत्या और बलात्कार की घटनाएं हुई, उससे साफ है कि बेटियों के लिए आदित्यनाथ जी का राज कब्रगाह बन गया है। बलिया की घटना का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि एसडीएम,सीओ और पुलिस के सामने भाजपा का नेता पाल समाज के व्यक्ति के सीने में गोली उतार देता है। बेशर्मी देखिए कि बीजेपी का विधायक और पूरी की पूरी सरकार आरोपी के साथ खड़ी हो जाती है। अभी तक गिरफ्तारी नहीं हुई। यह दिखाता है कि आदित्यनाथ जी का राज बलात्कारियों और हत्यारों को बचाने के लिए चल रहा है। दलितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों, ब्राह्मणों के साथ खुलेआम हत्या, लूट, डकैती, अपहरण की वारदातें हो रही हैं।उनको न्याय नहीं मिल रहा। लड़कियां न्याय न मिल पाने से मौत को गले लगा रही हैं। अब किसी को योगी जी से न्याय की उम्मीद नहीं है। योगी ने प्रदेश में गुंडाराज खत्म करने की बात कही थी लेकिन गुंडाराज कायम कर दिया भ्रष्टाचार खत्म करने की बात कही थी तो पूरे प्रदेश में कोरोना काल में भी दलाली खा गये। इन मुद्दों पर एक व्यापक रणनीति बनाकर एक बड़ा आंदोलन होगा, जमीनी संघर्ष किया जाएगा।


आप सांसद ने कहा कि कोरोना काल में बड़ा घोटाला हुआ। आपके जिले में 800 रु का आक्सीमीटर 5000 रु में ख़रीदा। 1600 रु का थर्मोमीटर 13000 रु में ख़रीदा गया। 800% तक कमीशन खाया गया। जब लोग कोरोना से मर रहे थे,तो योगी सरकार शमशान में दलाली खा रही थी। जब सीमा पर विवाद को लेकर चीन पर कारोबारी प्रतिबंध और बहिष्कार की बात चल रहा हो उस दौरान खुद को राष्ट्रवादी कहने वाली योगी सरकार की ओर से चीन निर्मित एनालाइजर 3 गुना दाम में खरीद रही थी। 


प्रदेश प्रभारी ने कहा कि मैंने प्रदेश सरकार का, योगी आदित्यनाथ का जातिवादी चेहरा उजागर किया, भ्रष्टाचार और घोटाला उजागर किया, अपराधीकरण के खिलाफ आवाज उठाई तो मेरे खिलाफ 4 माह में 14 मुकदमे दर्ज करा दिया। देशद्रोह तक की धारा लगवा दी गई। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी का सिपाही किसी की तानाशाही और गीदड़ भभकी से डरने,छुपने वाला नहीं है।कोई जातिवाद के आधार पर हत्यारों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगा, तो हम उसके खिलाफ लड़ेंगे। जनता को न्याय दिलाने के लिए आवाज उठाते रहेंगे।आम आदमी पार्टी को प्रदेश में जातियों की सरकार नहीं चाहिए, बल्कि 24 करोड़ जनता की सरकार चाहिए। आम आदमी पार्टी का संघर्ष जारी रहेगा सरकार जितना चाहे मुकदमे लगवा ले।


कृषि कानून पर बात करते हुए उन्होंने कहा की केंद्र की मोदी सरकार ने किसानों के लिए एक काला कानून पास किया है। मोदी बार-बार कह रहे थे कि इससे किसानों का भला होगा, खुशहाली आएगी, उनको फसलों का अधिक मूल्य मिलेगा। मोदी सरकार ने कानून में कहीं एमएसपी नहीं लिखा, जिसका असर अब दिखने लगा है। किसानों की फसल नहीं बिक रही, उनको वाजिब मूल्य नहीं मिल रहा। हाल यह है कि लखीमपुर खीरी में किसान ने अपनी खेत में खड़ी तैयार धान की फसल पर ट्रैक्टर चला दिया। किसान ने ट्रैक्टर अपने खेत पर नहीं चलाया, बल्कि अपनी छाती पर,श्रम पर और खून पसीने पर चलाया है। उन्होंने कहा कि योगी मोदी सरकार ने किसानों की आय दोगुनी करने की बात कही थी। किसानों को डेढ़ गुना एमएसपी देने की बात कही थी। इस सरकार ने किसानों के साथ धोखा किया है, विश्वासघात किया है।


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार