पंचायती चुनाव के उम्मीदवारों के लिए आम-आदमी-पार्टी ने जारी किया आवेदन पत्र


लखनऊ। शनिवार को प्रदेश अध्यक्ष सभाजीत सिंह ने गोमती नगर स्थित पार्टी कार्यालय में प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि प्रदेश में बदलाव की बयार गांव से ही बहेगी| इसके मद्देनज़र ही आम आदमी पार्टी ने प्रदेश में  पंचायत चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी थी| अब पार्टी इन चुनावों के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू कर रही है|


उन्होंने आगे कहा पार्टी ने एक आवेदन फॉर्म जारी किया है, इस फॉर्म में 15 बिंदुओं पर आवेदकों से सवाल किया गया है, जो भी प्रत्याशी आम आदमी पार्टी के समर्थन से जिला पंचायत का चुनाव लड़ना चाहते है उन्हें ये फॉर्म भरकर पार्टी के जिला मुख्यालय या प्रदेश मुख्यालय में जमा करना होगा। 


उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी का उम्मीदवार बनने के लिए जरूरी नहीं कि वो का पार्टी का कार्यकर्ता हो, वो सभी आवेदन कर सकते है जो जिला पंचायत का चुनाव लड़ने के इच्छुक है। उम्मीदवारों के आवेदन के बाद पार्टी उन इलाकों में एक सर्वे करा कर जो अच्छे उम्मीदवार होंगे उन्हें पार्टी अपना जिला पंचायत का उम्मीदवार बनाएगी। उन्होंने कहा जब से आम आदमी पार्टी ने जिला पंचायत का चुनाव लड़ने का फैसला किया है तब से जिला पंचायत का चुनाव लड़ चुके लोग व अन्य सामाजिक व राजनीतिक लोग आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर रहे है। 


उन्होंने ने किसानों के आंदोलन पर कहा आज हमारे देश के किसान अन्नदाताओं को अपने हक के लिए आंदोलन करना पड़ रहा है। मोदी सरकार ने किसानों के लिए सदन में 3 किसान बिल लागू किया, जिसमें किसानों के फसल पर न्यूनतम समर्थन मूल्य का जिक्र नहीं है, जिसको लेकर किसान आंदोलन कर रहे है। आम आदमी पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई किसानों के इस आंदोलन का समर्थन करती है। उन्होंने कहा मोदी ने कहा था देश के किसानों को उनकी फसल का डेढ़ गुना मूल्य देंगे, लेकिन आज किसानों को उनकी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य तक नहीं मिल पा रहा है। उत्तर प्रदेश का किसान 800-1000₹ क्विंटन धान बेचने को आज मजबूर है।


उन्होंने कहा आम आदमी पार्टी की मांग है कि सभी किसानों को उनके फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य देने के लिए धान क्रय केन्द्रों पर खरीद को सरकार सुनिश्चित करें। दूसरा किसानों के खिलाफ जो बिल सनद में पास किया गया है उसे सरकार वापस ले, और किसानों की मांग को पूरी करें। पार्टी के  मुख्य प्रवक्ता  वैभव माहेश्वरी ने कहा कि आम आदमी पार्टी की सक्रियता उत्तर प्रदेश में लगातार बढ़ती जा रही है। दिल्ली मॉडल के तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भी लोगों की बुनियादी मुद्दे, महिलाओं की सुरक्षा, किसानों के मुद्दे और छात्रों व बेरोजगारों के मुद्दे को लेकर आम आदमी पार्टी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ेगी। 


उत्तर प्रदेश में चल रहे योगी सरकार के मिशन शक्ति के बारे में उन्होंने कहा प्रदेश में बहुचर्चित मिशन शक्ति चल रहा है, जिकसा बोर्ड प्रदेश के सभी थानों में लगाया गया है, और कहा जा रहा है महिलाओं की सुरक्षा के लिए योगी आदित्यनाथ मिशन शक्ति चला रहे है, जबकि इसके उलट अखबार की हेडलाइन कुछ और ही कह रही है, पिछले 24 घण्टे में बलिया में 4 मर्डर हो गए,  किशोरी की हत्या, मथुरा में एक छोटी बच्ची का दुष्कर्म के बाद हत्या, अमरोहा में मिशन शक्ति के डेस्क पर तैनात महिला कांस्टेबल के साथ छेड़छाड़, ये है योगी के मिशन शक्ति का असली सच जिससे वो बेपरवाह है|


उन्होंने कहा वही दूसरी ओर हैदराबाद में योगी रोड शो कर रहे है। भ्र्ष्टाचार से लिप्त योगी सरकार अपने प्रदेश की कौनसी उपब्धियाँ हैदराबाद के रॉड शो में बताने गए है। आज उत्तर प्रदेश की निवासियों को शर्म आती है कि वो उत्तर प्रदेश का निवासी है। आम आदमी पार्टी की मांग है अगर मिशन शक्ति के डेस्क हर थाने में लगा ही दिए है, सरकार सच मे महिलाओं की सुरक्षा को लेकर गम्भीर है तो, हर थाने बाहर एक और बोर्ड लगवाइए जिसमें महिलाओं के प्रति अपराध के कितने मामले दर्ज है और उन मामलों में क्या प्रगति की जा रही है। तब जाकर शायद जनता यकीन कर ले कि योगी वाकई महिलाओं की सुरक्षा को लेकर गम्भीर है।


उन्होंने कहा कि बिजली मीटर में हुए घोटाले को लेकर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री जनता से उनकी राय लेंगे। सरकार के पास सभी आकड़े है तो उन्हें तमाम तरह के ड्रामे करने की बजाये एक जनरल ऑडर जारी कर सभी मीटरों की चेंज करवा देना चाहिए, और बिजली उपभोक्ताओं से अधिक पैसा वसूला गया है उन्हें ब्याज समेत वापस करें। आम आदमी पार्टी की नेताओं से प्रभावित होकर युवाओं का झुकाव लगातार पार्टी की ओर बढ़ रहा है। इसकी कड़ी में आज सीवाईएसएस के अध्यक्ष वंशराज दुबे के नेतृत्व में कई युवाओं ने सदयस्ता ग्रहण की। 


सीवाईएसएस के अध्यक्ष वंशराज दुबे ने कहा योगी आदित्यनाथ की सरकार ने 2017 में युवाओं के कंधे पर खड़े होकर चुनाव जीता था। 13 लाख नौजवानों को रोजगार देने का वायदा किया था सरकार ने। दुर्भाग्यपूर्ण है कुछ दिनों पहले सरकार ने एक ट्वीट जारी कर कहा उत्तर प्रदेश में नौकरियां तो बहुत है लेकिन यहां का नौजवान इस नौकरी के लायक नहीं है। 


उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश के युवाओं को नालायक़ कहने वाले योगी सरकार बताये की उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन में जो भर्तियां खाली पड़ी है वो किसकी नालायकी है? 11 हज़ार भर्तियों के लिए आवेदन किए अभ्यार्थी दर दर भटक रहे है वो किसकी नालायकी है का खमियाजा भुगत रहे है? 2017 में सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बावजूद दरोगा की भर्ती नहीं हुई, ये किसकी नालायकी है। आज उत्तर प्रदेश के अंदर योगी गरीबों के गाढ़ी कमाई से अपना खजाना भरने का काम कर रहे है।


उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश में सीवाईएसएस युवाओं और नौजवानों की आवाज बन चुकी है। आने वाले दिनों में सीवाईएसएस छात्र संघ प्रदेश बेरोजगारों और छात्रों के मामले को लेकर सरकार के खिलाफ आंदोलन करेगा। साथ ही प्रदेश के अधिक से अधिक छात्रों को अपने साथ जोड़ने का काम करेंगे। उन्होंने कहा आज जो साथी हमारे साथ जुड़ रहे है मैं उनका स्वागत करता हूँ।


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न