उमंग ऐप पर सर्वाधिक लेन-देन के लिये ईपीएफओ को प्लैटिनम पार्टनर पुरस्कार


उमंग ऐप के तीन वर्ष पूरे होने के अवसर पर केन्‍द्रीय इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एवं सूचना प्रौद्योगिकी, संचार, विधि और न्‍याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने केन्‍द्र तथा राज्‍यों के सहयोगी विभागों के लिए सभी सेवाओं में पिछले छह महीनों में औसत लेन-देन के आधार पर उमंग पुरस्‍कार का अनावरण किया। कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन (ईपीएफओ) को उमंग ऐप पर 25 लाख से अधिक लेन-देन रजिस्‍टर करने के लिए प्‍लेटिनम पार्टनर पुरस्‍कार दिया गया है।


ईपीएफओ के अधिकतर सदस्‍य सामाजिक-आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के हैं। ईपीएफओ के करोड़ों उपभोक्‍ताओं तक पहुंच बनाने के लिए सुलभ और किफायती समाधान आवश्‍यक था। स्‍मार्टफोन, काईओएस फीचर फोन, टैबलेट तथा डैशटोप जैसे इंटरनेट आधारित उपकरणों की लोकप्रियता और सहज इस्‍तेमाल पर विचार करते हुए ईपीएफओ ने सहज रूप से अपनी सेवाओं को रात-दिन पहुंच योग्‍य बनाने के लिए उमंग ऐप की क्षमता के दोहन का उद्देश्‍य रखा। खासकर दूरदराज के स्‍थानों पर रहने वाले उपभोक्‍ताओं के लिए इसी कारण उमंग पर ईपीएफओ सेवाएं लॉन्‍च की गई।


ईपीएफओ सदस्‍य उमंग ऐप का इस्‍तेमाल करके अपने मोबाइल फोन पर ईपीएफओ की 19 विभिन्‍न सेवाएं ले सकते हैं। सदस्‍य अपनी पासबुक देख सकते हैं। यूएएन एक्टिवेट कर सकते हैं, दावे कर सकते हैं, दावे की स्थिति देख सकते हैं, योजना प्रमाण-पत्र के लिए आवेदन कर सकते हैं, यूएएन के साथ आधार जोड़ सकते हैं, जीवन प्रमाण अद्यतन कर सकते हैं, शिकायत दर्ज कर सकते हैं, प्रतिष्‍ठान खोज सकते हैं और ईपीएफओ कार्यालय के पते प्राप्‍त कर सकते हैं। इन सेवाओं को प्राप्‍त करने के लिए आधार से जुड़ा एक्टिव यूएएन (यूनिवर्सल एकाउंट नंबर) और ईपीएफओ से पंजीकृत मोबाइल नंबर आवश्‍यक है।


ईपीएफओ उपभोक्‍ताओं में उमंग ऐप काफी लोकप्रिय हुआ है। इससे उपभोक्‍ता कोविड-19 महामारी के दौरान घर बैठे भी सेवाओं का उपयोग कर सकते हैं। पहली अप्रैल से सितम्‍बर, 2020 के चालू वित्‍त वर्ष में उमंग ऐप पर सदस्‍यों द्वारा 7.91 लाख दावे किए गए है। उमंग से सदस्‍यों को ईपीएफओ सेवाएं प्राप्‍त करने में कोविड-19 की आवाजाही प्रतिबंधों से मुक्ति मिली है और इससे शारीरिक रूप से ईपीएफओ के कार्यालय जाने की आवश्‍यकता कम हुई है।


उमंग ऐप पर ईपीएफओ की सेवाएं काफी लोकप्रिय हुई है। अक्‍टूबर 2019 से सितम्‍बर, 2020 तक ऐप को 42.63 करोड़ हिट प्राप्‍त हुए हैं। इसमें से 37.93 करोड़ हिट ईपीएफओ सेवाओं से संबंधित है। उमंग पर 88 प्रतिशत उपयोगकर्ताओं के साथ यह दावा करना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि उमंग की लोकप्रियता का एक प्रमुख कारण ईपीएफओ है।


सिंगल मोबाइल ऐप से सदस्‍यों के लिए सेवाओं तक पहुंच को सामान्‍य बनाकर ईपीएफओ ने पूरे देश के अपने सदस्‍यों को शक्ति और सुविधा देते हुए ई-गवर्नेंस से एम-गवर्नेंस की ओर कदम बढ़ाया है। उमंग ऐप निर्बाधी, ऑनलाइन सेवा प्रदान करने के कारगर माध्यम के रूप में उभरा है।


Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न