शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने हेतु प्रदेश के सभी परिषदीय विद्यालयों में चलाया गया मिशन प्रेरणा कार्यक्रम

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मिशन प्रेरणा कार्यक्रम प्रदेश के सभी परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने हेतु चलाया जा रहा है। इस कार्याक्रम को बुनियादी शिक्षा पर विशेष ध्यान देने के लिए शुरू किया गया है। इस कार्यक्रम में प्रधानाध्यापकों/प्रधानाध्यपिकाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है। परिषदीय विद्यालयों में पुस्ताकालय हेतु 500 से 1000 एन0सी0ई0आर0टी0 की पुस्तकों से युक्त क्रियाशील पुस्तकालय एवं रीडिंग कार्नर स्थापित किये जा रहे है। 

यह जानकारी प्रदेश के बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री, (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 सतीश चन्द्र द्विवेदी ने आज बापू भवन स्थित कार्यालय कक्ष में प्रधानाध्यापकों, एस0आर0जी0 एवं ए0आर0पी0 को स्कूल लीडरशिप डेवलपमेन्ट प्रोग्राम पर यूट्यूब सेशन के माध्यम से दी। उन्होंने बताया कि सभी परिषदीय विद्यालयों में छात्र-छात्राओं द्वारा किया आधारित सीखने के लिए एन0सी0ई0आर0टी0 की गणित किट दी जा रहीं है। बुनियादी शिक्षा का कौल बढाने के लिए प्रत्येक छात्र को ग्रेडेड रीडिग बुक देने की कार्यवाही गतिमान है। उन्होने बताया कि आधारशिला, ध्यान आर्कषण एवं शिक्षण संग्रह में दी गयी शिक्षण तकनीकी पर आधारित एवं बुनियादी शिक्षा पर आधारित लगभग 100 वीडियों विकसित किये गये है, जिसको देख कर शिक्षकों द्वारा शिक्षण तकनीकी को अत्मसात किया जा रहा है। निःशुल्क पाठ्य पुस्तकों पर आधारित 800 वीडियों विकसित किये गये है जिनका दूरदर्शन के माध्यम से प्रसारण किया जा रहा है। दीक्षा ऐप पर शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के प्रयोगार्थ 4000/ से अधिक वीडियों विजुअल्स शिक्षण सामग्री उपलब्ध करायी गयी है।

डाॅ0 द्विवेदी ने बताया कि उ0प्र0 सरकार सभी प्रधानाध्यापकों/प्रधानाध्यपिकाओं के नेतृत्व क्षमता संवर्धन हेतु एक विशेष कार्यक्रम स्कूल लीडरशिप डेवलपमेन्ट प्रोग्राम शुरू करने जा रहीं है, जिसके अन्तर्गत राज्य शैक्षिक प्रबंधन एवं प्रशिक्षण संस्थान तथा संस्था द्वारा स्कूल लीडरशिप प्रशिक्षण माड्यूल विकसित किया जायेगा। उन्होने बताया कि इस प्रोग्राम हेतु 20 ई-माॅड्यूल दीक्षा पोर्टल/ऐप पर एक कोर्स के रूप में अपलोड़ किये जायेंगे। दीक्षा प्रोजेक्ट ऐप के माध्यम से परिषदीय प्रधानाध्यापकों को विद्याालय विकास योजना के विभिन्न घटकों से संबंधित प्रोजेक्ट क्रियान्वन हेतु उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होने बताया कि ए0आर0पी0 द्वारा ब्लाक स्तर पर आयोजित लर्निग सर्किल मीटिंग में प्रधानाध्यापकों की आॅनलाइन एवं आॅफलाइन सहभागिता सुनिश्चित की जायेगी। प्रधानाध्यापकों को माह में एक बार स्कूल लीडरशिप डेवलपमेन्ट प्रोग्राम के तहत आॅनलाइन आयोजित यूट्यूब सेशन के माध्यम से प्रतिष्ठित शिक्षाविदों एवं उद्योग जगत में ख्यातिलब्ध व्यक्ति विशेष के साथ बात-चीत या सीखनें या अपने अनुभवों को साझा करने का अवसर मिलेगा। 

डाॅ0 द्विवेदी ने बताया कि सभी छात्र अभिभावक और शिक्षक को मिषन प्रेरणा की ओर प्रोत्साहित करने के लिए प्रेरणा उत्सव 100 दिन का कैंपेन चलाया जायेगा। इस प्रेरणा उत्सव कैंपेन के तहत छात्रों एवं अभिभावकों को प्रेरणा लक्ष्यों से परिचित कराना, मिन प्रेरणा बुनियादी शिक्षा समझने के लिए प्रति सप्ताह शिक्षा चैपाल का आयोजन, प्रेरणा लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए छात्रों एवं शिक्षकों का शपथ ग्रहण समारोह, उत्कृष्ट शिक्षकों, छात्रों, पंचायत सदस्यों को सम्मानित करने के लिए सम्मान समारोह, प्रेरणा लक्ष्य के संदेको फैलाने के लिए आई0ई0सी0 अभियान, नियमित रूप से बच्चों को स्कूल भेजने के लिए माता-पिता को प्रोत्साहित करने, आरम्भिक शिक्षा के लिए एक सुदृढ़ नींव की आवश्यकता पर विचार करना सहित आदि कार्यक्रम आयोजित किये जायेगे।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें