शरीर को मथुरा बनाना हैं और हृदय को गोकुल



हम तीर्थयात्रा करें, वह तो ठीक है किंतु प्रयास करें कि शरीर को ही तीर्थ सा पवित्र बनायें और हृदय को गोकुल बनाओ। 

गो शब्द के कई अर्थ हैं- इंद्रिय, भक्ति, गाय, उपनिषद आदि। इंद्रियों को विषयों की ओर बढ़ने देने की अपेक्षा प्रभु की ओर मोड़ दो क्योंकि उनके स्वामी श्रीकृष्ण ही हैं। 

यमुना भक्ति है। शरीर को मथुरा बनाना हैं और हृदय को गोकुल। तो भक्ति यमुना के किनारे पर बसना होगा। भक्ति का किनारा कभी ना छोड़ना। तभी तुम्हारा शरीर मथुरा और हृदय गोकुल बन पायेगा।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न