अजय कुमार लल्लू की अध्यक्षता में आयोजित महापंचायत में वरिष्ठ नेता हुए शामिल

लखनऊ। पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयन्ती (किसान दिवस) के अवसर पर आज उ0प्र0 किसान कांग्रेस मध्यजोन द्वारा ‘‘किसान स्वाभिमान महापंचायत’’ का आयोजन उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की अध्यक्षता में उ0प्र0 कांग्रेस कमेटी मुख्यालय नेहरूभवन 10 माल एवेन्यू लखनऊ पर सम्पन्न हुआ। किसान कांग्रेस के मध्यजोन के अध्यक्ष तरूण पटेल द्वारा आयोजित इस महापंचायत में कांग्रेस के वरिष्ठ नेतागण सहित किसान संगठनों व किसान कांग्रेस के पदाधिकारी व हजारों की संख्या में प्रदेश के कोने-कोने से आये किसान शामिल हुए।

किसान स्वाभिमान महापंचायत को सम्बोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा लाये गये किसान विरोधी तीनों काले कृषि कानूनों को लेकर जब हमारे नेता राहुल गांधी ने आवाज उठायी तो किसान संगठनों ने उनकी आवाज में आवाज मिलायी। उन्होने कई प्रदेशों का दौरा किया और सरकार ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। किसान आज आत्महत्या कर रहा है। भाजपा सरकार कहती थी कि किसानों की आय दुगुनी करेंगे और स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करेंगे। आज किसान अपनी उपज का उचित मूल्य के लिए तरस रहा है।

आज किसान दिवस के दिन मुख्यमंत्री को किसानों की मांग के साथ खड़ा होना चाहिए। आज किसान दिल्ली बार्डर पर आन्दोलनरत है सुप्रीमकोर्ट ने कहा कि किसानों को अपनी आवाज उठाने का मौलिक अधिकार है लेकिन यह सरकार नहीं मानती। 14 दिनों में गन्ने का भुगतान न होने पर ब्याज सहित भुगतान करने की बात कही लेकिन आज चार वर्ष हो चुके हैं अभी तक हजारों करोड़ बकाया है। किसानों की बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा नहीं दिया गया।

पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी ने कहा कि आजादी से पहले भी अंग्रेजों द्वारा तीन काले कानून किसानों पर थोपे गये थे उस समय भी किसानों के आन्दोलन का नेतृत्व जागरूक सरदार बिरादरी के लोगों ने किया था और शहीदे आजम सरकार भगत सिंह के पिता ने किया था। भाजपा अपने चंद पूंजीपतियों मित्रों को लाभ पहुंचाने के लिए जो किसान विरोधी काले कानून लायी है उसे कांग्रेस वापस लेने हेतु किसानों के साथ पूरी ताकत के साथ संघर्ष करेगी। कांग्रेस विधान परिषद दल के नेता दीपक सिंह ने कहा कि आज किसान को न तो उसके उपज का उचित मूल्य मिल रहा है और न ही उसकी लागत निकल पा रही है। भाजपा ने किसानों को दुगुनी आय का झांसा दिया और आज किसान दुगुनी आय को कौन कहे, आर्थिक तंगी के चलते आत्महत्या करने के लिए विवश हो रहा है।

कार्यक्रम के आयोजक किसान कांग्रेस के अध्यक्ष तरूण पटेल ने कहा कि किसान कांग्रेस इस महापंचायत जो प्रस्ताव पारित हुए हैं चाहे वह अन्ना पशुओं की समस्या, गौशालाओं की दुर्दशा, तीनों काले कृषि कानूनों का विरोध सहित किसानों की समस्याओं को लेकर निरन्तर गांव गली, खेल खलिहान तक किसानों के बीच पहुंचकर उनकी समस्याओं के निदान हेतु संघर्ष करेगी। महापंचायत में पारित प्रस्ताव में कहा है कि किसान कांग्रेस के द्वारा किसान स्वाभिमान महापंचायत किसानों के जनहित के लिए बुलाई गई यह पंचायत है जिसमें वर्तमान में किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ और आने वाले समय के लिए एक ढांचागत और समयबद्ध तरीके से लड़ाई लड़ने के लिए एक संवैधानिक तौर तरीके अपनाए जाने की जरूरत है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां