यूपी के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने डाली झूठी खबर- मनीष सिसोदिया

लखनऊ उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने एक बार फिर कहा है कि यूपी सरकार के मंत्रियों ने जब बहस की चुनौती दी है, तो अब पीछे न भागें। मैं 22 दिसंबर को लखनऊ आऊंगा, बहस का समय, स्थान बताएं। उन्होंने कहा कि यूपी सरकार के मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने ट्वीट करके दिल्ली के स्कूलों की चार पुरानी तस्वीरें डालकर फर्जीवाड़ा किया है। फोटोशाॅप के बदले शिक्षा पर गंभीर बहस की तैयारी करें। सिसोदिया ने चारों पुरानी तस्वीरों को हास्यास्पद बताते हुए हरेक का सच भी बताया। 

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि केजरीवाल का शिक्षा माॅडल सच्चाई और ईमानदारी पर आधारित है, झूठफरेब के जरिए इसे चैलेंज टिक नहीं पाएगा। आप के यूपी चुनाव लड़ने की घोषणा की तो बीजेपी के मंत्री बौखला गए हैं। लेकिन उन्हें दिल्ली के स्कूलों के बारे में एक भी निगेटिव खबर नहीं मिली तो फ़र्ज़ीवाड़े पर उतर आए। 

सिसोदिया ने यूपी के मंत्री द्वारा जारी फोटोशाॅप वाली चारों तस्वीरों और पुरानी खबरों का सच भी बताया। उन्होंने कहा कि मैंने अधिकारियों से चारों खबरों का सच जानना चाहा तो पता चला कि चारों खबरें पुरानी हैं। पहली तसवीर सोनिया विहार के स्कूल की है जो वर्ष 2016 की है। लेकिन यूपी के मंत्री ने फोटोशाॅप करके जानबूझकर उस खबर से 2016 की तारीख हटा दी ताकि उसे आज की ताजा तसवीर कहकर प्रचारित कर सकें। जबकि अब उस स्कूल की बिल्डिंग काफी अच्छी बना दी गई है। उन्होंने कहा कि ऐसा झूठफरेब करना योगी सरकार के मंत्रियों को शोभा नहीं देता। 

सिसोदिया ने कहा कि योगी के मंत्री को अगर दिखाने के दिल्ली के ऐसे चार साल पुराने स्कूल ही मिले, तो यह हमारी सफलता की निशानी है। इससे पता चलता है कि योगी सरकार के मंत्रियों को हमारे खिलाफ दिखाने के लिए एक भी वास्तविक उदाहरण नहीं मिला। यह केजरीवाल का माॅडल आॅफ गवर्नेंस है। सिसोदिया ने कहा कि यूपी के एक मंत्री ने हमें अपने स्कूल देखने का न्यौता दिया था। हम उनके स्कूल देखने का तैयार हैं। हमने उनसे यूपी के गांवों के ऐसे दस स्कूलों की लिस्ट भी मांगी, जिन्हें चार साल में बीजेपी सरकार ने सुधारा हो, जिनकी बिल्डिंग अच्छी बनी हो, जिनमें अच्छे रिजल्ट आए हों, जहां के बच्चे प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होते हों। लेकिन यूपी के मंत्री ऐसे दस स्कूलों के नाम बताने को तैयार नहीं जबकि हम दिल्ली सरकार के एक हजार स्कूलों की सूची देने को तैयार हैं। यूपी के मंत्रियों को हम अपने एक हजार स्कूल घुमाने और दिखाने को तैयार हैं। वे अपने दस स्कूल ही दिखा दें। 

सिसोदिया ने कहा कि जब योगी के मंत्रियों ने डिबेट की चुनौती दी है, तो अब पीछे न हटें। 22 दिसंबर को लखनऊ में शिक्षा के योगी माॅडल बनाम केजरीवाल माॅडल पर खुली बहस हो। लोकतंत्र के लिए यह काफी स्वस्थ और अच्छा मुकाबला होगा। इससे यूपी और देश के करोड़ों बच्चों को काफी लाभ होगा। 

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली एक छोटा राज्य है। हमारे संसाधन भी कम हैं। जबकि यूपी बड़ा राज्य है। संसाधन भी ज्यादा हैं। केंद्र सरकार से मदद भी मिलती है। इसलिए योगी के मंत्रियों से अनुरोध है कि झूठफरेब करना बंद करें। चार साल में योगी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में जो भी अच्छा काम किया हो, उस पर गंभीरता से बात हो। हम भी केजरीवाल सरकार के शिक्षा माॅडल पर पर बात करने को तैयार हैं।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न