प्रधानमंत्री मोदी के लिए देश के अन्नदाता की बात सुनने से ज्यादा जरुरी, अपने मन की बात कहना है- अखिलेश यादव

लखनऊ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर आगामी 25 दिसम्बर 2020 को समाजवादी किसान घेरा कार्यक्रम का आयोजन होगा। गांव के स्तर पर किसानों के बीच पार्टी के नेता घेरा बनाकर चैपाल लगाएंगे। पार्टी के सांसद, विधायक तथा अन्य प्रमुख नेता स्वयं किसी गांव में जाकर किसान घेरा कार्यक्रम का नेतृत्व करेंगे। अब तक चल रही किसान यात्रा का आज अंतिम दिन समापन हो गया है। किसान यात्रा कार्यक्रम निरस्त कर दिया गया है।

समाजवादी किसान घेरा कार्यक्रम में पार्टी नेताओं को जिम्मेदारी दी जाएंगी। वे जहां किसानों से संवाद करेंगे वहीं उन्हें समाजवादी नीतियों तथा समाजवादी सरकार की उपलब्धियों की भी जानकारी दी जाएगी। समाजवादी घेरा कार्यक्रम में पार्टी नेता  गांवों में किसानों की चैपाल में फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) एवं तथाकथित कृषि सुधार अधिनियम की सच्चाई से भी अवगत करायेंगे कि भाजपा सरकार किसानों को किस कदर बर्बाद करने पर तुली हुई है।

विडम्बना है कि देश का अन्नदाता ठण्ड में ठिठुरते हुए अपनी बात कहना चाहता है परन्तु प्रधानमंत्री सिर्फ अपने मन की बात कर रहे हैं। भाजपा की हठधर्मी के चलते दर्जनों किसान अपनी जानें गवा बैठे हैं। भाजपा सरकार किसानों को बदनाम कर रही है। किसानों तक यह बात पहुंचाने और सरकारी साजिशों का पर्दाफाश करने के लिए गांव-गांव में समाजवादी नेता अलाव जलाकर घेरा में चैपाल करेंगे।

स्मरणीय है, समाजवादी पार्टी किसान और गांव के लिए प्रतिबद्ध रही है। जब देशव्यापी किसान आंदोलन शुरू हुआ तो समाजवादी पार्टी ने उसका पूरी दृढ़ता से समर्थन किया। किसानों के भारत बंद में भी समाजवादी कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया था। समाजवादी पार्टी किसानों के साथ अन्याय बर्दाश्त नहीं कर सकती।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार