सिद्धार्थनाथ सिंह बहस से रहे नदारद

 


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह द्वारा दिल्ली और उत्तर प्रदेश के शिक्षा मॉडल को लेकर दी गई चुनौती को स्वीकार करते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया लखनऊ पहुंचे। परंतु योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ना तो खुद  बहस के लिए  आए और ना ही  उनकी ओर से कोई जवाब आया। इसी संबंध में उत्तर प्रदेश के पार्टी कार्यालय में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए मनीष सिसोदिया ने दिल्ली और उत्तर प्रदेश के विकास मॉडल की तुलनात्मक व्याख्या पत्रकारों के समक्ष रखी। उन्होंने कहा कि 5 साल पहले दिल्ली की जनता ने आम आदमी पार्टी को वोट देकर भारी बहुमत के साथ दिल्ली में अरविंद केजरीवाल की सरकार बनाई। पिछले 5 साल के कार्यकाल में अरविंद केजरीवाल की सरकार की अगुवाई में दिल्ली के विकास में हर क्षेत्र में अद्भुत परिवर्तन हुए हैं। आज दिल्ली के सरकारी स्कूल प्राइवेट स्कूलों से बेहतर है, वही उत्तर प्रदेश में सरकारी स्कूलों की हालत खस्ता है, दिल्ली के सरकारी स्कूलों के नतीजे 98% पर पहुंच गए, परंतु उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों के नतीजे वहीं 70-75% पर अटके हुए हैं, दिल्ली में पिछले 5 सालों में प्राइवेट स्कूलों की फीस नहीं बढ़ने दी गई और वही उत्तर प्रदेश में पिछले 5 सालों में प्राइवेट स्कूलों की फीस कई गुना बढ़ा दी गई है। उन्होंने कहा कि आज केजरीवाल सरकार के शासनकाल में दिल्ली के लगभग 80% लोगों को बिजली मुफ्त में मिल रही है, जबकि उत्तर प्रदेश में बिजली के दामों का क्या हाल है यह बताने की जरूरत नहीं है। दिल्ली में 24 घंटे बिजली की आपूर्ति है, जबकि उत्तर प्रदेश में कितने घंटे बिजली आती है यह पूरे उत्तर प्रदेश की जनता को मालूम है। 5 साल के अंदर दिल्ली में जो परिवर्तन हुए, वह केवल इसलिए हो सके क्योंकि दिल्ली की जनता ने एक ईमानदार सरकार को चुना।

उन्होंने कहा कि जब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जो दिल्ली का विकास मॉडल है वह उत्तर प्रदेश की जनता को भी मिलना चाहिए, तो इस पर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री ने दिल्ली बनाम उत्तर प्रदेश के मॉडल पर बहस करने की चुनौती दी। मैं उनकी चुनौती को स्वीकार करते हुए आज उत्तर प्रदेश आया हूं और मैं सिद्धार्थ नाथ का इंतजार कर रहा हूं, मुझे पूरी उम्मीद है कि वह आएंगे और उत्तर प्रदेश की जनता के सामने उत्तर प्रदेश के विकास मॉडल पर चर्चा करेंगे।

पत्रकारों को मौजूदा समय की जानकारी देते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा कि लगभग 2:00 बज चुके हैं और हम काफी देर से सिद्धार्थ नाथ सिंह का इंतजार कर रहे हैं परंतु वह नहीं आए। अब ऐसा प्रतीत हो रहा है की उत्तर प्रदेश की सरकार और सरकार के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह अपनी चुनौती से खुद ही भाग रहे हैं। मीडिया के माध्यम से उत्तर प्रदेश की जनता से अपील करते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा, कि उत्तर प्रदेश के बहुत सारे लोग दिल्ली में रहते हैं और उन्हें दिल्ली का केजरीवाल मॉडल देखा है। मैं आप लोगों से अपील करता हूं कि एक बार उत्तर प्रदेश में भी केजरीवाल को मौका दीजिए, मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आप कांग्रेस, भाजपा, सपा और बसपा सभी पार्टियों को हमेशा हमेशा के लिए भूल जाओगे। आज पूरे उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की तानाशाही के खिलाफ यदि कोई विपक्ष की भूमिका निभा रहा है, तो वह केवल आम आदमी पार्टी है, आज उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार के कुकर्मो के खिलाफ यदि कोई पुरजोर तरीके से बोल रहा है तो वह केवल आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह हैं, बाकि सभी विपक्षी पार्टियां सोई हुई हैं।

इससे पहले प्रदेश के दौरे पर पहुंचे दिल्ली के उपमुख्यमंत्री का कार्यकर्ताओ ने गर्मजोशी से स्वागत किया। पार्टी की महिला विंग, छात्र विंग, माइनॉरिटी विग, युवा विंग समेत तमाम कार्यकर्ताओ ने एयरपोर्ट से गाँधी भवन तक के बीच उनका कई जगह ज़ोरदार स्वागत किया। प्रदेश प्रभारी और राज्य सभा सांसद संजय सिंह और सभाजीत सिंह, आशुतोष सेंगर, प्रदेश मीडिया कोर्डिनेटर महेंद्र प्रताप सिंह ने एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी की।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न