सत्ता के अहंकार में भाजपा कर रही है किसानों व देश के हर नागरिक की थाली का अपमान- अखिलेश यादव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर अलग-अलग जनपदों के हजारों गांवों में समाजवादी किसान घेरा अभियान में आज तीसरे दिन भी विधायकों, सांसदों, पूर्व विधायकों, पूर्व सांसदों सहित पूर्व मंत्रियों, तथा जिलों के पदाधिकारियों ने सक्रिय भागीदारी निभाई।

गांवों में अलाव पर चौपाल लगाकर किसानों के बीच उनकी समस्याओं पर भाजपा राज में बढ़ती परेाशनियों पर चर्चा की गई। किसानों को समाजवादी सरकार के समय उनके हित में किए कामों से भी अवगत कराया। 25 दिसम्बर 2020 से प्रारम्भ किसान घेरा कार्यक्रम सुविधानुसार एक दिन में एक या दो गांवों का चयन कर चलाया जा रहा है। किसान घेरा कार्यक्रम में राज्य के ज्यादा से ज्यादा गांवों तक पहुंचाने का लक्ष्य है।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि सत्ता के अहंकार में भाजपा किसानों व देश के हर नागरिक की थाली का भी अपमान कर रही है। कृषि कानूनों  के खिलाफ किसानों के आंदोलन का एक महीना पूरा हो गया है। भाजपा अपने प्रिय पूंजीपति मित्रों का समर्थन करते हुए ऐसे रास्ते पर चल पड़ी है जो किसान, मजदूर एवं निम्न मध्यम वर्ग के खिलाफ जाता हैं। कैसी विडम्बना है कि एक ओर तो भाजपा सरकार की ओर से आंदोलनकारी किसानों के बारे में तमाम अनर्गल आरोप लगाए जा रहे हैं जबकि उनसे वार्ता की भी पेशकश की जा रही है। यह अपने अधिकारों के लिए सड़क पर बैठे किसानों का अपमान है।

‘किसान सम्मान‘ की नाममात्र धनराशि देने की आड़ में काले कृषि कानून लागू कर उनका हजारो-लाखों का नुकसान करना चाहती है। देश-प्रदेश में जबसे भाजपा सरकारें बनी हैं किसानों के लिए संकट के हालात बन गए हैं। किसानों को फसल का उचित दाम नहीं मिला। फसल बीमा योजना भी बीमा कम्पनियों की कारगुजारियों का शिकार बन गई है। वस्तुतः यह किसान आंदोलन भाजपा सरकार की विफलता का जीवंत स्मारक है। समाजवादी पार्टी अन्नदाता के साथ खड़ी है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न