अवतार का मूलतः उद्देश्य भक्तों का पोषण है

विशुद्ध अन्तःकरण वाले परमहंस जिनके अन्तस् में भगवान अपनी प्रेम मयी भक्ति प्रकट करते हैं। वे ही तत्वतः आपको पहचान पाते हैं। सामान्य जीव तो भगवान पहचानने में असमर्थ ही रहता है। 

भगवान का अवतार असुर संहार, धर्म संस्थापना तथा गो विप्र रक्षा आदि के लिए होता है। अवतार का मूलतः उद्देश्य भक्तों का पोषण है। भगवान के अवतार के बाद भक्तों को दोहरा लाभ होता है। एक तो वे अवतार के दर्शन करते हैं तथा दूसरे उनकी लीलाओं का गान करते हैं। भक्तियोग विधानार्थ ही भगवान का अवतार होता है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न