जब भक्ति दुखी होता है तो महाराज जी को भी तकलीफ होती है

 


गुरु की जय करना अच्छी बात है -करना चाहिए। 

परन्तु वर्तमान में गुरु के लिए हमारी वास्तविक भक्ति उनके वचनों पर, उनके उपदेशों पर चलना ही होगी। 

क्योंकि जब हम ऐसा करेंगे तो हम सुखी होंगे, हमारे जीवन में शांति होगी। 

और जैसे महाराज जी हमेशा कहते हैं कि जब उनका भक्ति सुखी होता है, प्रसन्न होता है तो महाराज जी को भी प्रसन्नता होती है। 

और जब भक्ति दुखी होता है तो महाराज जी को भी तकलीफ होती है। 

महाराज जी उपदेशों पर चलने के पश्चात् हमारे जीवन में दुःख कम से कम होंगे - ये निश्चित है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न