कामना की पूर्ति होने पर लोभ बढ़ता है और न होने पर क्रोध

काम, क्रोध और लोभ ये तीनों नरक के द्वार हैं। वास्तव में एक काम के ही ये तीन रूप हैं। कामना की पूर्ति होने पर लोभ बढ़ता है और न होने पर क्रोध बढ़ता है।

ये तीनों सांसारिक वस्तुओं, व्यक्तियों आदि को महत्व देने से पैदा होते हैं। काम अर्थात कामना की दो तरह की क्रियाएँ होती हैं-इष्ट की प्राप्ति और अनिष्ट की निवृत्ति।

इष्ट की प्राप्ति भी दो तरह की होती है-संग्रह करना और सुख भोगना। संग्रह करने की इच्छा का नाम लोभ है और सुखभोग की इच्छा का नाम काम है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां