वीमेन पावर लाइन-1090 से सम्बन्धित 1,74,933 शिकायतों मे से 1,54,618 शिकायतों का किया गया निस्तारण

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के अनुपालन के क्रम में प्रदेश में महिलाओं एवं बच्चों का उत्पीड़न रोकने, महिलाओं एवं बच्चों के विरूद्ध हो रहे अपराधों को नियंत्रित करने और उनको सहायता प्रदान करने तथा महिलाओं के सशक्तीकरण हेतु वीमेन पावर लाइन-1090 व अन्य सम्बन्धित कार्यरत इकाइयों द्वारा निरंतर प्रभावी कार्यवाही की जा रही है।
 
अपर पुलिस महानिदेशक, 1090 से मिली जानकारी के अनुसार महिलाओं एवं बालिकाओं के साथ टेलीफोन द्वारा छेड़खानी, विभिन्न प्रकार के उत्पीड़न तथा छोटे-छोटे अपराधों को बिना थाने जाये शैशव स्तर पर रोकने के उददेश्य से स्थापित वीमेन पाॅवर लाइन 1090 पर बीते वर्ष 2020 में कुल 2,81,830 शिकायतें दर्ज हुई हैं। कुल दर्ज 2,81,830 शिकायतों में से 1,74,933 शिकायतें फोन बुलिंग एवं साइबर बुलिंग से संबंधित थी, जिसको सीधे 1090 द्वारा निस्तारित किया जा रहा है, जिसमें से अभी तक 1,54,618 शिकायतों का निस्तारण किया जा चुका है, शेष शिकायतें निस्तारण की प्रक्रिया में हैं। इसके अतिरिक्त 2,849 शिकायतें स्टाकिंग से संबंधित हैं व 1,04,048 शिकायतें अन्य प्रकरणों से संबंधित होने के कारण उन्हें जनपदीय पुलिस, जी0आर0पी0, यू0पी0-112 को अन्तरित किया गया है।

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस विभाग के अन्तर्गत महिलाओं से सम्बन्धित कार्यरत इकाइयों यथा- वीमेन पावर लाइन-1090, महिला सम्मान प्रकोष्ठ, सी0बी0सी0आई0डी0 के पुलिस महिला सहायता प्रकोष्ठ को समेकित करते हुए महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन की स्थापना की गयी है, जिसके द्वारा लगातार महिला सम्बन्धी अपराधों पर रोकथाम हेतु कार्यवाही की जा रही है। इसको और अधिक सक्रिय किया गया है।

अवस्थी ने बताया कि विभिन्न श्रोतों से महिलाओं के विरूद्ध होने वाले अपराधों की शिकायतों के डेटा को एकत्र कर दोषी व्यक्तियों की पहचान करने तथा उनके विरूद्ध इलेक्ट्रानिक साक्ष्य एकत्र करने व उसके विश्लेषण एवं मिलान की कार्यवाही के लिए सेफ सिटी परियोजना के अन्तर्गत 1090 हेतु अत्याधुनिक डाटा विश्लेषिकी केन्द्र एवं साइबर फोरेन्सिक लैब स्थापित किया गया है।

अपर पुलिस महानिदेशक, 1090 ने यह भी बताया है कि 1090 की साइबर सेल द्वारा प्राप्त शिकायतों के निस्तारण को और अधिक प्रभावी, गुणवत्तापरक एवं समयबद्ध बनाये जाने हेतु सेफ सिटी परियोजना के अन्तर्गत 1090 की साइबर सेल को सुदृढ़ीकृत किया गया है, जिसके अन्तर्गत अत्याधुनिक साइबर फोरेन्सिक टूल्स का उपयोग करते हुए इस प्रकार की शिकायतों का त्वरित निस्तारण कराया जा रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि किसी स्थान विशेष पर पीछा करना या छेड़खानी सम्बन्धी घटना की सूचना (ऐक्टिव स्टाॅकिंग) प्राप्त होने पर त्वरित कार्यवाही करते हुए पीड़िता को मदद पहुंचायी जाती है।

इस कार्य हेतु सेफ सिटी परियोजना के अन्तर्गत 1090 का यूपी-112 से इण्टीग्रेशन किया गया है, जिसके माध्यम से 1090 में प्राप्त सूचना को तत्काल यूपी-112 में स्थानान्तरित करते हुए पुलिस बल को मौके पर भेजकर 1090 द्वारा लगातार फालोअप किया जाता है तथा ऐक्टिव स्टाॅकिंग का एस0एम0एस0 अलर्ट सम्बन्धित उच्चाधिकारियों के सी0यू0जी0 मोबाइल पर भी प्रेषित होता है। उल्लेखनीय है कि पारिवारिक विवाद के प्रकरणों में वीमेन पावर लाइन द्वारा आॅनलाइन काउन्सलिंग की सेवा का शुभारम्भ दिनांक 17.10.2020 से प्रारम्भ किया गया है। जिसमें अब तक मनोचिकित्सकों के माध्यम से 441 काउन्सलिंग करायी गयी है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न