‘‘सामाजिक समरसता में ग्रहों का योगदान‘‘ विषय पर व्याख्यान गोष्ठी का किया गया आयोजन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान द्वारा मकर संक्रान्ति पर्व के अवसर पर इन्दिरा नगर स्थित कार्यालय में खिचड़ी भोज कार्यक्रम के साथ-साथ ‘‘सामाजिक समरसता में ग्रहों का योगदान‘‘ विषय पर व्याख्यान गोष्ठी का भी आयोजन किया गया। गोष्ठी में डाॅ0 अनिल पोरवाल, लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ, एवं डाॅ0 विनोद कुमार मिश्र ने अपना व्याख्यान दिया। गोेष्ठी में संस्थान के निदेशक पवन कुमार, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी दिनेश कुमार मिश्र सहित समस्त कार्यरत कर्मचारी एवं श्रोतागण उपस्थित रहे। कार्यक्रम में आमंत्रित वक्ता डाॅ0 अनिल पोरवाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति तथा संस्कार पर्व त्यौहार इत्यादि पर पूर्णतयाः आश्रित है और यहाँ पर्व और त्यौहार कब मनाये जाने चाहिए उसका निर्णय काल विधानक ज्योतिष शास्त्र में ग्रह नक्षत्र तथा ताराओं के माध्यम से किया जाता है। इसी का परिणाम है कि सामान्य जनमानस बिना किसी आमंत्रण के विशेष पर्व जैसे मकर संक्रान्ति, पूर्णिमा, अमावस्या इत्यादि में नदियों पवित्र जलाशयों में स्नान हेतु जाता है। 

आमंत्रित वक्ता डाॅ0 विनोद कुमार मिश्र अपने उद्बोधन में कहा कि ग्रहों नक्षत्रों के द्वारा काल के अवयवों को जाना जा सकता है जिसमें त्रुटि से लेकर प्रलय काल तक की गणना की जा सकती है। इसमें इसके अन्तर्गत आधुनिक समय व्यावहारिक काल, घण्टा, मिनट, दिनांक इत्यादि का ज्योतिष शास्त्र से किस प्रकार से सम्बन्ध है इसको भी जाना जा सकता है क्योंकि काल के बिना मानव सभ्यता का न तो कोई इतिहास पता चल सकता है और न ही कोई भूगोल। 

संस्थान के निदेशक पवन कुमार ने उक्त अवसर पर अपने उद्बोधन में कहा कि सामाजिक समरसता को लाने के लिए संस्थान सतत रूप से प्रयत्नशील है। पुराता ग्रन्थों तथा प्राचीन परम्पराओं के माध्यम से समाज में समरसता एवं शुचिता स्थापित की जा सकती है। इस अवसर पर बड़ी संख्या में श्रोतागण उपस्थित रहे जिन्होंने गोष्ठी में प्रतिभाग किया तथा पारम्परिक खिचड़ीभोज का आनन्द लिया। 

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न