असंवेदनशील और असफल भाजपा सरकार में उत्तर प्रदेश बन गया है "दुराचार प्रदेश"- अखिलेश यादव

लखनऊ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि प्रदेश में भाजपा के कुशासन के चलते अपराधियों को खुली छूट मिली हुई है। मुख्यमंत्री की कागजी सख्ती और बड़बोलापन लोगों की जिंदगी पर भारी पड़ रहा है। महिलाओं, बच्चियों से छेड़खानी, दुष्कर्म और हत्या की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है। महिलाओं की सुरक्षा पर असंवेदनशील और असफल भाजपा सरकार में उत्तर प्रदेश दुराचार प्रदेश बन गया है। सरेआम राजधानी में भी गोलियां चल रही हैं। दहशत के इस माहौल में भी मुख्यमंत्री ठोक दो और राम नाम सत्य कर दो का जाप अलाप रहे हैं।

राजधानी लखनऊ में विभूतिखण्ड में सरेआम गोलियां चली। लूट, अपहरण की घटनाएं रोज ही होती है। ठाकुरगंज लखनऊ में प्रापर्टी डीलर की हत्या हुई। बस्ती जनपद में ट्रिपल मर्डर से लोग डरे है। एक प्लेसमेंट एजेंसी के एजेंट का अपरहरण किया गया। जौनपुर में फिरौती के लिए एक 7 वर्ष के मासूम की अपहरण के बाद हत्या की गई। कई कुख्यात अपराधियों के गुर्गे अभी भी वसूली के धंधे में लगे है। सचिवालय तक के फर्जी पास लगाकर अपराधी घूूम रहे है।

मुख्यमंत्री के गृृह जनपद गोरखपुर में 18 वर्षीया युवती की रेप के बाद हत्या कर लाश फेंक दी गई। इटावा में बेटी से छेड़छाड़ का विरोध करने पर पिता को पीट-पीटकर कर मार डाला गया। गाजीपुर में पुलिस की पिटाई से युवक की मौत हुई। बदायूं में महिला के साथ दरिंदगी की तो हद हो गई। आजमगढ़ की युवती का जौनपुर में गैंगरेप कर वीडियों वायरल करने का शर्मनाक मामला हुआ है। मुरादनगर में श्मशान दलाली कांड में 25 जाने गई। इसने साबित कर दिया है कि श्मसान पर राजनीति करने वाली भाजपा का भ्रष्टाचार कोई भी जगह नहीं छोड़ता है।

सत्ता संरक्षित जानलेवा शराब का धंधा भी खूब चल रहा है। बुलन्दशहर के जीतगढ़ी में जहरीली शराब पीकर कई लोगों की जाने गई, गत तीन वर्षों में दर्जनों जिलों में शराब पीकर मरने वालों की गिनती बढ़ती गई है। पुलिस की लापरवाही ने कितने ही परिवारों को बेसहारा कर दिया है। इन दिनों अपराध की दुनिया में साइबर ठगी का भी जोर चल रहा है। बैंक या बीमा अधिकारी बनकर फोन पर लोगों से निजी जानकारी हासिल कर उनके खातों से लाखों रूपए उड़ाने के मामले अब आए दिन थानों में दर्ज हो रहे है। ज्यादातर मामलों में न अपराधी पकड़ में आते है न हड़पी गई रकम वसूल हो पाती है।

भाजपा राज में बढ़ते अपराधों से उत्तर प्रदेश विश्व में कुख्यात हो गया है। कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त है। जनता का भरोसा भी भाजपा सरकार से टूट गया है। आशा की जाती है कि अपने संवैधानिक दायित्व का निर्वहन करते हुए महामहिम राज्यपाल महोदया प्रदेश में बढ़ते अपराधों का संज्ञान अवश्य लेंगी। अपराध नियंत्रण भाजपाई मुख्यमंत्री के वश में नहीं। मुख्यमंत्री जाने किस आधार पर कहते हैं कि अपराधियों ने प्रदेश छोड़ दिया है जबकि अपराधियों ने नहीं, अपराध नियंत्रण के लिए जिम्मेदार अफसरों ने ही अपना दायित्व निभाना छोड़ दिया है। जनता भाजपा से निजात पाने को व्याकुल है। एक वर्ष के बाद ही जनता को भाजपा कुशासन से मुक्ति मिल सकेगी।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें