वैश्विक कपड़ा और वस्त्र बाजार में पैर जमाने के लिए श्रमिकों का करें कौशल विकास- वेंकैया नायडू


उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने वस्त्र निर्यात और  वैश्विक कपड़ा बाजार में पैर जमाने के लिए श्रमिकों के कौशल विकास और आधुनिक तकनीक अपनाए जाने पर जोर दिया है। उन्होंने आज कहा कि हालांकि हमारे पास कच्चा माल और मानव संसाधन प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है फिर भी हम वैश्विक वस्त्र निर्यात में काफी पीछे हैं क्योंकि कपड़ा बनाने वाली छोटी कंपनियां अभी भी पुरानी तकनीक का इस्तेमाल कर रही हैं।

वस्त्र निर्यात संवर्धन परिषद (एईपीसी) के वर्चुअल प्लेटफार्म का उद्घाटन करते हुए नायडू ने कहा जब तक औसत दर्जे की वस्त्र निर्माण इकाइयां नई प्रौद्योगिकी और कुशल मानव संसाधन का इस्तेमाल नहीं करती तब तक हम विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी कीमतों वाले गुणवत्ता उत्पाद नहीं बना पाएंगे। नई तकनीक और मानव संसाधनों के कौशल विकास के जरिए ही कपड़ा क्षेत्र की आर्थिक क्षमताओं और रोजगार के अवसरों का पूरा लाभ उठाना संभव हो पाएगा। संशोधित प्रौद्योगिकी उन्नयन कोष योजना (एटीयूएफएस) को छोटी कंपनियों के लिए उत्कृष्ट योजना बताते हुए उन्होंने कहा कि दूसरी और तीसरी श्रेणी के शहरों में छोटी कंपनियों को इस योजना का लाभ पहुंचाने के लिए ठोस प्रयास किए जाने चाहिए।

उन्होंने इसे एक सराहनीय पहल बताते हुए उम्मीद जताई के यह दुनिया भर में भारतीय परिधान निर्यात को बढ़ावा देने में लंबे समय तक मददगार साबित होगा। उन्होंने कपड़ा मंत्रालय द्वारा की जा रही पहलों के लिए कपड़ा मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी की सराहना की। वैश्विक वस्त्र निर्यात में भारत की हिस्सेदारी महज 6 प्रतिशत होने का उल्लेख करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि यह हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए वस्त्र निर्माण करने वाली छोटी इकाइयों को आर्थिक मदद दी जानी चाहिए ताकि वे ऐसे उत्पाद बना सके जो विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी हों।

नायडू ने कहा कि वैश्विक बाजार में प्रतिस्पर्धा में भारत की बढ़त और  ताकत कुशल श्रम शक्ति से होनी चाहिए न केवल सस्ती श्रम शक्ति से। उपराष्ट्रपति ने कपड़ा उद्यमियों से बदलती वैश्विक मांगों के अनुरूप अपने विनिर्माण पोर्टफोलियो में विविधता लाने और नए बाजारों का दोहन करने का आह्वान किया। उन्होंने परिधानों की अच्छी कीमत हासिल करने के लिए ब्रांडिंग के महत्व पर जोर दिया और उद्यमियों को ब्रांड के तहत कपड़े बनाने की सलाह दी।

अर्थव्यवस्था में कपड़ा क्षेत्र द्वारा निभाई कई महत्वपूर्ण भूमिका का उल्लेख करते हुए नायडू ने कहा कि यह दूसरा सबसे बड़ा रोजगार देने वाला क्षेत्र है जो लगभग 4 करोड़ 50 लाख लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार उपलब्ध कराता है। उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र देश की जनसंख्या के जरिए आर्थिक लाभ के दोहन में भी बड़ी भूमिका निभा सकता है। यह भारत के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण विदेशी मुद्रा अर्जित करने वाला उद्योग है जो देश के निर्यात आय में लगभग 12 प्रतिशत का योगदान करता है। 

तकनीकी वस्त्र जैसे उभरते क्षेत्र में कपड़ा उद्योग के लिए प्रचुर संभावनाएं उल्लेख करते हुए उन्होंने कपड़ा उद्यमियों से बढ़ते वैश्विक बाजार में अवसर तलाशने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि तकनीकी इस बाजार के 2022 तक 220 अरब अमेरिकी डॉलर का हो जाने की संभावना है। नायडू ने सरकार द्वारा मानव निर्मित फाइबर (एम0एम0एस0) और तकनीकी वस्त्रों के लिए हाल ही में घोषित उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन पीएलआई योजना की सराहना की उन्होंने महामारी के दौरान चिकित्सा कपड़ों (पीपीई किट फेस शिल्ड मास्क और दस्ताने) के उत्पादन और निर्यात को बढ़ावा देने के लिए एईपीसी और कपड़ा मंत्रालय के प्रयासों को भी सराहा।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न