गणतंत्र दिवस पर सपा की बड़ी तैयारी, राष्ट्रीय ध्वज लगाकर निकालेगी ट्रैक्टर रैली

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर 26 जनवरी 2021 को समाजवादी पार्टी राज्य भर में प्रत्येक तहसील स्तर पर किसानों के ट्रैक्टर पर राष्ट्रीय ध्वज के साथ समाजवादी पार्टी का झण्डा लगाकर गणतंत्र दिवस मनाएंगे।

अखिलेश यादव ने अपने बयान में कहा है कि किसान अपनी न्याय संगत मांगों को लेकर दो माह होने को है। धरना दे रहे है और शांतिपूर्ण ढंग से भाजपा की बहरी सरकार के कानों तक अपनी आवाज पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं। सरकार हठधर्मिता में अड़ी है। भाजपा सरकार किसानों को अपमानित करने पर तुली है। भाजपा किसान को उद्योगपति बनाने का झांसा देकर उसकी खेती को उद्योग की श्रेणी में रखकर उसे आयकर की जद में लाने की साजिश कर रही है। किसान भाजपा के इस कुत्सित इरादे को कभी सफल नहीं होने देंगे।

यादव ने कहा कि किसानों की दो सामान्य मांगे हैं कि तीनों कृषि कानून वापस लिए जाएं और एमएसपी की अनिवार्यता हो। सरकार बहाने बाजी करके किसानों को भटकाने में लगी रही पर सफल नहीं हो सकी। किसान एकता टूटी नहीं। गणतंत्र दिवस को ट्रैक्टर रैली के साथ मनाने के उनके निर्णय को समाजवादी पार्टी भी अपना समर्थन दे रही है। अखिलेश यादव ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा है कि उन्हें डरने की जरूरत नहीं है। अभी से गांव-गांव, घर-घर पहुंचे और किसानों से संवाद करें। 26 जनवरी 2021 गणतंत्र दिवस पर तिरंगा झण्डा के साथ समाजवादी झण्डा लगाकर ट्रैक्टर से तहसील स्तर पर सभी जनपदों में ध्वजारोहण कार्यक्रम में रैली का आयोजन कर सफल बनाएं।

अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार की मंशा अन्नदाता किसान के खेती पर स्वामित्व को खत्म कर उसे पूंजी घरानों का मजदूर बनाने की है। पूंजीघरानों के दबाव की वजह से ही सरकार किसानों की उचित मांगे भी नहीं मान रही है। किसानों का शांतिपूर्ण आंदोलन देशव्यापी है। समाजवादी पार्टी किसानों के हर मोर्चे पर साथ है। किसान यात्रा और समाजवादी युवा घेरा तथा चौपाल कार्यक्रमों की अभूतपूर्व सफलता से डरी भाजपा सरकार पुलिस बल के प्रदर्शन से डराने का विफल प्रयास कर रही है।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकारों से जनता का मोहभंग हो रहा है क्योंकि उसने वादाखिलाफी के रिकार्ड पर रिकार्ड बना दिए हैं। समाज के हर वर्ग से धोखा किया गया है। देश-प्रदेश की अर्थव्यवस्था और कानून व्यवस्था बर्बाद की गई है। समाजवादी सरकार के कामों को अपना बताकर दिन बिताने वाली सरकारों में अब प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के बीच परस्पर प्रशंसा की जुगलबंदी ही करना बचा है क्योंकि बताने के लिए उनकी कोई ठोस योजना है ही नहीं। जनता ने भी तय कर लिया है कि वह आगे धोखा नहीं खाएगी, धोखा देने वाले खुद धोखा खाएंगे।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

यूपी में पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारियां