भगवान एकबार जिसका वरण कर लेते हैं, फिर उसका त्याग कदापि नहीं करते


हमारी कुछ गरीबी कम होती है हम अमीरी की ओर कदम बढ़ाते हैं वैसे ही धीरे-धीरे हमारा भगवद्भाव, हमारा भजन छूटने लगता है क्योंकि उस समय हमको भगवान की आवश्यकता नहीं। जिस चीज को भगवान ने दिया है उसमें भगवान याद ही नहीं आ रहे हैं लेकिन भक्ति में ऐसा नहीं है एक बार भगवान जिसका वरण कर लेते हैं फिर कदापि उस जीव का भगवान त्याग नहीं करते।

वृत्तासुर कहते हैं कि भगवन मैं उस पछी के बच्चे के समान नहीं होना चाहता। मैं तो उस प्रेमिका के समान होना चाहता हूँ जो सदैव अपने प्रियतम की प्रतीक्षा ही करती है उसकी प्रतीक्षा कभी समाप्त नहीं होती। जैसे-शबरी, गोपी। शबरी ने सिर्फ और सिर्फ प्रतीक्षा करना ही सीखा है।

Popular posts from this blog

अनेक बातें जो हम समझ नहीं पाते

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आॅनलाईन ट्रांसफर सिस्टम विकसित किये जाने की प्रगति की समीक्षा बैठक की गई संपन्न

पीसीएस मणि मंजरी राय आत्महत्या मामले में नया खुलासा, ड्राइवर गिरफ्तार