बर्ड-फ्लू की रोकथाम एवं बचाव हेतु लखनऊ चिड़ियाघर में किये गए विशेष इंतेजाम

लखनऊ। वर्तमान समय में देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू का प्रकोप तेजी से फैल रहा है। ज्ञात है कि कानपुर प्राणि उद्यान में बर्ड फ्लू के कुछ पाजिटिव केस पाये गये हैं। इसको देखते हुये लखनऊ प्राणि उद्यान में विशेषतौर पर बर्ड फ्लू के रोकथाम एवं बचाव हेतु व्यवस्था की जा रही है।


प्राणि उद्यान में प्रवेश करने वाले सभी दर्शकों के लिये पक्षी बाड़े पूर्णत बंद कर दिये गये हैं। पक्षी बाडों में कीपर व सफाईकारों को पी0पी0ई0 किट पहन कर ही सफाई व भोजन देने हेतु प्रवेश दिया जा रहा है।प्राणि उद्यान में किसी भी प्रकार के बाहरी वाहनों का प्रवेश पूर्णतः वर्जित कर दिया गया है।


प्राणि उद्यान में प्रवेश करने वाले सभी दर्शकों एवं कर्मचारियों को फुटवाश का प्रयोग करके तथा हाथों के सेनेटाइजेशन के उपरान्त ही प्रवेश दिया जा रहा है। प्राणि उद्यान के सभी बाड़ों विशेषतौर पर पक्षियों के बाड़ों का सेनेटाइजेशन किया जा रहा है तथा बाड़ों के अगल-बगल चूने का छिड़काव भी किया जा रहा है। 


प्राणि उद्यान में बर्ड फ्लू के प्रकोप को देखते हुए अभी कुछ समय के लिये भोजन में दिये जाने वाले पोल्ट्री/मुर्गी तथा अण्डों को भी अब बन्द कर दिया गया है। पक्षियों के बाड़ों के अन्दर या बाहर किसी भी पक्षी में किसी प्रकार के लक्षण प्रतीत होते है तो उसे तुरन्त विस्तृत जांच हेतु भेजा जायेगा।


प्राणि उद्यान परिसर के अन्दर यदि किसी पक्षी की मृत्यु होती है तो उसे बर्ड फ्लू के प्रोटोकाल के उपरान्त सारी सतर्कता बरतते हुए जांच हेतु भेजा जायेगा। पक्षी बाड़े के कीपरों को बर्ड फ्लू के बारे में जागरूक किया गया है, जिससे वह सतर्क रहे।

प्राणि उद्यान में वन्यजीवों को दिये जाने वाले भोजन को पोटेशियम पर मैगनेट के घोल से साफ करके ही वन्य जीवों को दिया जा रहा है। प्राणि उद्यान के सभी पक्षियों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने हेतु विशेषतौर पर औषधियां दी जा रही है एवं साथ ही बर्ड फ्लू के लिये अलग से आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की गयी है।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें