राजेन्द्र सिंह बग्गा की अध्यक्षता में गुरुद्वारा नाका हिण्डोला में बैठक-सभा हुई सम्पन्न


लखनऊ। गुरूसिंह सभा गुरुद्वारा नाका हिण्डोला, लखनऊ में एक बैठक सभा के अध्यक्ष स0 राजेन्द्र सिंह बग्गा की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में बोलते हुए बग्गा ने बताया कि गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी साहिब गुरु गोबिन्द सिंह महाराज का प्रकाश पर्व  (जन्मोत्सव) दिनांक 19 एवं 20 जनवरी 2021 को शासन द्वारा जारी कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए मास्क लगाकर और सोशल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए गुरुद्वारा साहिब में बड़ी श्रद्धा एवं सत्कार के साथ मनाया जायेगा। 

गुरुगोबिन्द सिंह के प्रकाश पर्व को समर्पित साहिब गुरु ग्रन्थ साहिब महाराज के सहज पाठ (प्रातःकाल से संध्या तक गुरबाणी पाठ) से प्रकाश पर्व  के कार्यक्रम का शुभारम्भ हुआ, इसमें संगत के द्वारा ही गुरबाणी पाठ किया जायेगा। जिसका समापन 20.01.2021 प्रकाश-पर्व के दिन दीवान हाल में सामूहिक रुप से होगा। स्टेज सेक्रेट्ररी सतपाल सिंह मीत ने बताया कि प्रकाश पर्व (जन्मोत्सव) पर 19 जनवरी को प्रातः 06.30 बजे गुरुग्रन्थ साहिब महाराज की छत्र-छाया एवं पाँच प्यारों की अगुवाई मे प्रभात फेरी (नगर कीर्तन) कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए गुरुद्वारा साहिब से मोतीनगर, आर्या नगर होते हुए प्रात: 09.00 बजे गुरुद्वारा साहिब वापस पहुँचेगी।

सांय 06.00 बजे से 09.30 बजे तक एवं 20 जनवरी 2021 को प्रातः 06.00 बजे से दोपहर 03.30 बजे तक गुरबाणी कीर्तन एवं कथा व्याख्यान के दीवान सजेंगे एवं 12 वर्ष तक के बच्चों के लिये सिक्ख बाणा के मुकाबले के कार्यक्रम भी होंगे। गुरु का लंगर श्रधालुओं में वितरित किया जायेगा। गुरुगोबिंद सिंह महाराज के प्रकाशोत्सव के सम्बन्ध में प्रातःकाल से हरविन्दर पाल सिंह नीटा तथा इन्दरजीत सिंह के संयोजन में प्रातः 05.00 बजे से प्रभातफेरी का शुभारम्भ हुआ, जिसमें संगत गुरबाणी कीर्तन का गायन करके प्रभु की आराधना करते हैं। बैठक में गुरदीप सिंह भाटिया एवं राजवन्त सिंह बग्गा जसविन्दर सिंह भाटिया, कुलदीप सिंह सलूजा, स0 दिलीप सिंह आदि उपस्थित थे।

Popular posts from this blog

स्वस्थ जीवन मंत्र : चैते गुड़ बैसाखे तेल, जेठ में पंथ आषाढ़ में बेल

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ गौरी रूपेण संस्थिता।  नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

!!कर्षति आकर्षति इति कृष्णः!! कृष्ण को समझना है तो जरूर पढ़ें